Latest News

प्रधानमंत्री के निर्देशों का पालन ही कोरोना से निजात संभव.....................

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

.... आज हम आपको बताना चाहते हैं हमारे देश के सुरक्षाकर्मी डॉक्टर नर्स एवं पैरामेडिकल के लोग एवं हमारे सफाई कर्मी सभी लोग इसको रोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए घर बार छोड़कर आप का इलाज कर रहे हैं क्या वह इंसान नहीं है उन्होंने भी लॉक टाउन में घर पर बैठना चाहिए परंतु आपके लिए देश के लिए सब को स्वस्थ रखने के लिए अपनी जान जोखिम में डालकर आपका कोरोना वायरस का इलाज कर रहे हैं और आप क्या कर रहे हैं उनके साथ इंटे पत्थर से हमला कर रहे है थुख रहे हैं ऐसे लोग जो निर्वस्त्र होकर तबलीगी जमात ई खेलो कोरोना वायरस से संक्रमित होते हुए वह अपने वार्ड में नग्न अवस्था में घूम रहे हैं यह सब कैसी हरकतें हैं मुझे लगता है तबलीगी जमात के पीछे विपक्ष के साथ पाकिस्तान का इन्हें सहयोग एवं दिशा निर्देश तबलीगी जमात ई को पाकिस्तान द्वारा प्राप्त हुए हैं तभी इस तरह की गंदी किनौनी हरकत कर रहे हैं और देश में करोना वायरस को फैलाने का काम कर रहे हैं हमें अपने वीर सुरक्षाकर्मी सिपाहियों पर हमें अपने डॉक्टरों पर हमें अपने नर्सों पर हमें अपने सफाई कर्मियों पर गर्व है कोरोना संकट की घड़ी में जब सब लोग लॉकडाउन में है वह है हमारे आपके जीवन की रक्षा के लिए अपनी-अपनी ड्यूटी कर रहे हैं उन्हें में हृदय से प्रणाम करता हूं। आप सभी लोग इन महारथियों का सम्मान करें और इनके कार्यों में सहयोग प्रदान करें सच्चा भारतीय अवश्य सब बातों का ध्यान रखेगा और हिमवीर सुरमा ओं का सम्मान करेगा यही हमारी आपसे विशेष निवेदन है जो हमारे रक्षक हैं उनका सम्मान करो ना कि पत्थर फेको आप सब समझे और इन सभी लोगों का जो अपना घर-परिवार छोड़कर कोरोना वायरस मरीजों का इलाज कर रहे हैं उनका पूर्ण सम्मान करें क्योंकि वह ईश्वर के भेजे हुए प्रतिनिधि जो आपकी जान बचा रहे हैं आप सब लॉक डाउन का पूर्ण पालन करते हुए देश के दिए गए दिशा निर्देशों पर अवश्य कार करेंगे और कोरोनावायरस से देश को शीघ्र भगाने में अग्रणी भूमिका निभाएंगेकोरोना वायरस  का संबंध वायरस के ऐसेपरिवार से है जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है। इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था। डब्लूएचओ के मुताबिक बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं। अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है।
 इसके संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है। यह वायरस दिसंबर में सबसे पहले चीन में पकड़ में आया था। इसके दूसरे देशों में पहुंच जाने की आशंका जताई जा रही है।कोरोना से मिलते-जुलते वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं। कोरोना वायरस अब चीन में उतनी तीव्र गति से नहीं फ़ैल रहा है जितना दुनिया के अन्य देशों में फैल रहा है। कोविड 19 नाम का यह वायरस अब तक 200 से ज़्यादा देशों में फैल चुका है। कोरोना के संक्रमण के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सकता है कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में निमोनिया, सांस लेने में बहुत ज़्यादा परेशानी, किडनी फ़ेल होना और यहां तक कि मौत भी हो सकती है। बुजुर्ग या जिन लोगों को पहले से अस्थमा, मधुमेह या हार्ट की बीमारी है उनके मामले में ख़तरा गंभीर हो सकता है। ज़ुकाम और फ्लू में के वायरसों में भी इसी तरह के लक्षण पाए जाते हैं। कोरोनावायरस के कारण आज पूरा विश्व परेशान है हमारा भारत भी इस लड़ाई में बहुत तेजी से बहुत ही सावधानी पूर्वक देश के प्रधानमंत्री माननीय प्रधानमंत्री जी श्री नरेंद्र मोदी जी जो दिशा निर्देश दिए सही समय समय पर देशवासियों को मार्गदर्शन किया और बहुत से लोगों ने पालन भी किया कुछ लो लॉक डाउन का पालन नहीं कर रहे हैं को नहीं समझते हैं कि वर्तमान समय में पूरा विश्व थम गया है जो जहां पर था वहीं पर रोक दिया गया लॉक डाउन कर दिया क्यों क्योंकि कोरोनावायरस एक गंभीर बीमारी है जिसकी अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बन पाई है विश्व के माने जाने देश मेडिकल के क्षेत्र में नंबर वन की श्रेणी में आते हैं अमेरिका इटली जहां पर संसाधनों की कमी नहीं है वहां पर आज हजारों हजारों संख्या में कोरोनावायरस से मृत्यु हो चुकी है कंट्रोल में नहीं कर पा रहे हैं लाखों लोग कोरोनावायरस संक्रमित है। आज भारत देश में बहुत से लोग ऐसे हैं जो एक दूसरे को कहते हैं सुना है मैंने अरे यार घर में क्यों बैठे हो करो ना कहां यार यहां आएगा चलो घूमने चलते हैं इस तरह की बात बहुत से लोग करते हैं जिन्हें यह नहीं मालूम कि उनके पूर्वजों ने इस तरह की देश में जिस तरह पूरा बंद है सभी स्तर है ऐसा कभी नहीं सोचा होगा वह आज देखकर और हमारे नासमझ भाई जोसे समझने का प्रयास नहीं कर रहे हैं इस बीमारी का वह ध्यान से लॉक डाउन का पालन करें क्योंकि इसका एक इलाज है इकट्ठे ना हो क्योंकि यह आपस में एक दूसरे के माध्यम से इंफेक्शन आज से इसकी गति तेजी से बढ़ती है आज पूरा भारत जाति धर्म को भूलकर कोरोनावायरस के लड़ाई में सरकार का साथ दें सरकार के द्वारा बनाए गए दिशा-निर्देशों का पूर्ण रूप से पालन करें क्योंकि कोरोनावायरस जाति धर्म देखकर नहीं आता है बॉस से भाई समझने का प्रयास नहीं कर रहे हैं लॉक डाउन करो तोड़ना वह अपनी बाही बाही समझते हैं यह ठीक नहीं यह हानिकारक है आप सभी देश के सच्चे नागरिक दिए गए दिशा निर्देशों पर प्रधानमंत्री जी से लेकर राज्यों के मुख्यमंत्री तक जो दिशा गाइडलाइन मिल रही है उसका पूर्ण पालन करें और भारत से इस कोरोनावायरस को जल्दी से जल्दी भरा दें और हमारी पुरानी जिंदगी आपस में मेलजोल से जो चीजें सब बंद पड़ी हैं वह फिर शीघ्र चलने लगे हमारा जीवन आनंद में होने लगे क्योंकि यह जो भी होगा जब हम सब लॉक डाउन का पूर्ण रूप से समय से पालन करेंगे क्योंकि लापरवाही इसका तेजी से बढ़ने में मदद करती है लापरवाही ना करें जो लोग तबलीगी जमात ई जो किया वह दोबारा अब देश मेंऐसे लोग ना हो जो देश में कोरोनावायरस की सारे समीकरणों को बिगाड़ कर रख दिया हमारे प्रधानमंत्री जी ने इतने सही समय लाओ डाउन किया लेकिन ए तबलीगी जमात ई जो कर गए और जो कर रहे हैं वह वास्तव में देश के लिए एक समस्या बन गए हैं किस तरह सरकार उनको उनके द्वारा मिलने वालों को कहां-कहां वह लोग गए हैं किस से किस से मिले किस स्तर में कहां अपने को बनाए रहे और करो ना को तेजी से बढ़ाते गए आज पूरा देश अन्य देश की स्थिति बहुत अच्छा है और बहुत अच्छा होता अगर कहीं तबलीगी जमात ई किस तरह ना कोरोना वायरस फैलाते हैं तो आज भारत नंबर वन पर है और अच्छा नंबर वन पर होता जहां पर कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज बहुत ही कम मात्रा में आज होते लेकिन तबलीगी जमात ई में पूरा सिस्टम खराब कर दिया जो बहुत बड़े दंड के बागी है। ऐसे लोगों को जिस समय पूरा देश लाख डाउन पर था और यह लोग इकट्ठे होकर कोरोनावायरस की साजिश रच रहे थे ऐसे लोगों को देशद्रोही देश के लिए बहुत बड़े दुश्मन हैं इन्हें सख्त से सख्त कार्रवाई करनी होगी। बताना चाहता हूं किसी क्षेत्र के सांसदों या विधायकों वह लोग गरीब लोगों को खानपान की समुचित व्यवस्थाएं नहीं करा रहे जबकि माननीय प्रधानमंत्री जी ने एवं मुख्यमंत्री जी ने सत्य निर्देश दिए हैं बहुत से लोग ऐसे हैं जिनके यहां खाने के लिए दाना नहीं है चूल्हा नहीं जल रहा है इस संदर्भ में मैंने बात उठाई तो कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला नेता सांसद विधायक यह सिर्फ कुछ पैकेट दान में सहायता करने के लिए जनता को एक समय निर्धारित कर मीडिया के समक्ष वितरण कर पेपरों में निकलवा देते हैं कितना इस नेता ने इस विधायक ने इस सांसद ने गरीबों को अन्य आदि की किट प्रदान की और सिर्फ जनता को मूर्ख बना रहे हैं उन्हीं को मिल पाता है जो सांसद विधायक के साथ रहते हैं उनके साथ जिनके तालमेल मोहल्ले में होते हैं उनको बुला कर दे दिया जाता है और अपरिचित लोग जो उनके किसी के माध्यम से पहुंच नहीं रखते हैं वह गरीब लोग आज भी खाने के व्यवस्था में लगे हुए रहते हैं परंतु भरपेट भोजन नहीं मिल पा रहा है ऐसी स्थिति में है निष्पक्षता के साथ सभी की मदद करनी चाहिए जो लोग मदद करने की हैसियत में है उन्हें इस लॉक डाउन मैं जो रोज कमाते हैं रोज खाते हैं उन्हें जो दिक्कतें आ रही हैं उन तक राशन पहुंचाने हेतु जिला स्तर से सांसदों या विधायक हो या जिले के कलेक्टर हो सभी को इस पर ध्यान देकर जो लोग जायज है जिनकी मदद होनी चाहिए उनकी मदद के लिए कार्य करने की जरूरत है ना कि चेहरे देखकर सामग्री का वितरण किया जाए यह गलत है आज भी बहुत से लोग परेशान हैं रोजमर्रा की चीजें जुटाने में उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि सभी बाजार और उनके जो रोजमर्रा के कार्य थे वह सब बंद हो गए हैं लॉक डाउन के कारणों से उनके धंधे पानी सब बंद है सरकार के निर्देशों का सांसद विधायक क्षेत्र का हर सर सभ्य आदमी जो मदद करने की हैसियत रखता है उसे आगे आकर गरीब लोगों की मदद करनी चाहिए सिर्फ मीडिया के सामने 4 2 को बांट दिया और फोटो खिंचा ली आपकी कार्यशैली सरकार को दिखाने के लिए आपने अपना कार्य पूरा कर लिया जबकि जनता परेशान है।

No comments