Latest News

गैर प्रांतों से आने वाले मजदूरों का नहीं मिल पा रहा ठिकाना

ग्राम सचिवालय तथा स्कूलों में लटके ताले

उरई,एट(जालौन), अजय मिश्रा । इन दिनों पुरा देश कोरोना वायरस कोविड-19 के प्रकोप से जंग लग रहा है। केंद्र एवं प्रदेश सरकार पूरा देश सावधानी बरतने के साथ लोगों को जागरूक कर रहा है। प्रशासन की ओर से इस वायरस से बचाव के लिए जहां पूरा जनपद लॉकडाउन का पालन करा रहा है। वहीं जिला प्रशासन अपने अधीनस्थों को आदेश देकर बाहर से आने वाली मजदूरों को 14 दिन तक गांव से बाहर कैंपों एवं सचिवालय तथा विद्यालयों में आइसोलेट करने के निर्देश गांव स्तर पर प्रधान तथा पंचायत सचिवों को जिम्मेदारी दी गई है। लेकिन सचिव अपने कार्यालय को बंद करके कई दिनों से नदारद हैं वही स्कूलों में भी ताले लगे हुए देखे जा रहे हैं। आने वाले मजदूर अपने अपने घरों पर परिवार के साथ बिना चेकअप किए रह
फोटो नंबर सचिवालय में लटका ताला
रहे हैं।
कस्बा एट में बने  पंचायत सचिवालय पर  सचिव की लापरवाही से ताले लटकते नजर आ रहे हैं। वहीं जिम्मेदार अपने घर पर आराम फरमा रहे है। दूसरी ओर गैर प्रांतों से आए मजदूरों का सीधा अपने-अपने घर पहुंच कर सभी से घुलना मिलना कहीं कस्बा में बड़ा संकट खड़ा न कर दे। जिला प्रशासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं जबकि जिला प्रशासन के सख्त आदेश है कि बाहर से आने वाले मजदूरों को चेकअप करने के बाद 14 दिन तक विद्यालय या सचिवालय में क्वारंटाइन कर उनको कड़ी निगरानी में रखा जाए तथा उनकी खानपान सहित सारी व्यवस्था की जाए। लेकिन ग्राम पंचायत पर तैनात सचिव अपने कार्यालय में ताला लटका कर क्षेत्र से नदारद दिखाई दे रहे हैं। वही कस्बा में निरंतर गैर प्रांतों से मजदूरों का आना और सीधे घर जाकर सभी से मिलना कहीं कस्बा वासियों के लिए मुसीबत खड़ी ना कर दे। फिलहाल जिम्मेदारों का गैर जिम्मेदाराना रवैया कस्बा वासियों के लिए खतरा न बन सकता।

No comments