Latest News

लॉकडाउन कानपुर:- कोरोना संक्रमण का सबसे बुरा असर होटल, क्लब और रेस्टारेंट कारोबार पर पड़ेगा,15 दिन में लॉकडाउन खत्म भी हो जाएगा तो भी इनके हालात सुधरने में महीनों लग जाएंगे

कोरोना संक्रमण का सबसे बुरा असर होटल, क्लब और रेस्टारेंट कारोबार पर पड़ेगा। महीना, 15 दिन में लॉकडाउन खत्म भी हो जाएगा तो भी इनके हालात सुधरने में महीनों लग जाएंगे। दरअसल कोरोना संक्रमण के भय की वजह से कुछ महीने तो यहां आने जाने की घोषित पाबंदी रहेगी, जबकि इसके बाद कई महीने तक लोग अघोषित तौर पर दूरी बनाकर रखेंगे। सामने दिख रहे हालात से इन व्यवसाय से जुड़े कारोबारी चिंतित हैं। कारोबारी खुद मानते हैं कि तीन मई के बाद लॉकडाउन खुलता भी है तो कोविड-19 के प्रभाव से बाहर आने में कम से कम एक वर्ष का समय लग सकता है।
कारोबार में 40 फीसदी तक आएगी गिरावट
आमजा भारत कार्यालय संवाददाता::-कारोबारियों का मानना है कि होटल, क्लब और रेस्टारेंट कारोबार में अगले एक वर्ष तक कम से कम 40 फीसदी तक गिरावट रहेगी। हाल फिलहाल कारोबार का पुराने स्वरूप में आना मुश्किल होगा। इसके दो कारण हैं। एक तो लोग खुद ही बाहर जाकर खाने से परहेज करेंगे। बहुत ही जरूरी मौकों पर वे निकलना चाहेंगे। इस वजह से भी लोगों की आवक कम रहेगी। इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन बहुत अनिवार्य होगा। ऐसे में रेस्टोरेंट में जितने लोगों के बैठने की क्षमता है, उसमें कम से कम एक बार में 50 फीसदी की कटौती स्वत: हो जाएगी। जब एक बार में निर्धारित क्षमता से कम लोग बैठेंगे तो कारोबार पर असर पड़ेगा ही।
विज्ञापन

50 हजार से अधिक लोगों को मिलता है रोजगार
शहर में करीब 300 होटल, एक दर्जन स्तरीय क्लब और तीन हजार से अधिक रेस्टोरेंट व ढाबे हैं। इनमें 50 हजार से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलता है। 30-35 हजार लोग तो सीधे जुड़े हैं। बाकी लोग इन प्रतिष्ठानों की आवश्यकताओं की आपूर्ति से जुड़े हैं। जिस तरह से कारोबारियों ने आशंकाएं जताई हैं, ठीक वैसा ही हुआ तो इस इंडस्ट्री में रोजगार पाने वालों को बड़ा झटका लगेेगा। बताते हैं कि कारोबार में जितने फीसद की गिरावट आएगी, उतनी ही लोगों से रोजगार छिन सकता है। सरकार मात्र तीन से चार महीने तक मदद दे सकती है, लेकिन इसका असर नौ से 12 महीने तक रहेगा।

No comments