लॉक डाउन कानपुर: फोन पर आर्डर लेकर प्रशासन घर पहुंचाएगा राशन - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, March 26, 2020

लॉक डाउन कानपुर: फोन पर आर्डर लेकर प्रशासन घर पहुंचाएगा राशन

लॉक डाउन की अवधि में लोगों को जरूरी सामान लेने के लिए भी घर से न निकलना पड़े, इसके लिए प्रशासन ने होम डिलीवरी का खाका खींच लिया है। 1800 वाहनों से लोगों तक खाना और राशन कैसे पहुंचाया जाए, अब इसका एक्शन प्लान तैयार हो रहा है। यह व्यवस्था शुक्रवार से लागू हो पाएगी, इसलिए गुरुवार को जरूरी सामान की उपलब्धता के लिए अधिसूचित दुकानें सुबह चार बजे से 11 बजे तक खुल सकेंगी। इस दौरान खरीदारी के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के अनुशासन का पालन भी करना होगा। साथ ही आवश्यक वस्तु के परिवहन और विशेष परिस्थिति को छोड़कर आवागमन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा।
सोशल डिस्टेंसिग के लिए तैयार हो रहा प्लान

कानपुर आमजा भारत संवाददाता:- सोशल डिस्टेंसिंग पूरी तरह लागू करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राशन और अन्य जरूरी सामान की होम डिलीवरी कराने का व्यवस्था करने का आदेश दिया है। चूंकि सुबह सभी दुकान एक साथ खुलने पर सोशल डिस्टेंसिंग व्यवस्था की धज्जियां उड़ रही हैं और इससे संक्रमण का खतरा अधिक है, इसलिए मंगलवार देर रात तक प्रशासन होम डिलीवरी की व्यवस्था कराने में जुटा रहा। इसके लिए 450 ई-रिक्शा, पिकअप, वैन और 1350 ठेलों की व्यवस्था की गई है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कड़ाई से कराने के साथ होम डिलीवरी सिस्टम का एक्शन प्लान बनाने के लिए बुधवार को पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की कलेक्ट्रेट में बैठक हुई।

ठेले पर सब्जी बेचने और दुकानों से होम डिलीवरी करने वालों की सूची मांगी

व्यवस्था में कमी न रहे, किसी को दिक्कत न आए, इसलिए ठेले और सिर पर डलिया के माध्यम से फल, सब्जी व अन्य जरूरी खाद्य सामान की सप्लाई चेन को अनुमति दी जाएगी। दूध, राशन, गैस सिलिंडर, मसाले आदि जरूरी सामान किराना दुकानदारों के जरिए पहुंचाए जाएंगे। किराना की वही दुकानें खुलेंगी, जो डोर टू डोर राशन की आपूíत कर सकेंगी। व्यापार मंडलों के माध्यम से ऐसे दुकानदारों की सूची मांगी गई है। यह सूची थानावार बनाकर थानाध्यक्षों को दी जाएगी। ई-रिक्शा, वैन और ठेले से सप्लाई सुचारू रहे, इसकी व्यवस्था सीधे थानाध्यक्ष देखेंगे।

जरूरी खाद्य सामान की डिलीवरी करने वाले अपने साधन और पैदल, दोनों तरह से आ-जा सकें, इसकी व्यवस्था की जाएगी। वहीं, लॉकडाउन के कारण बाहर से सामान आने में आ रही दिक्कत को दूर करने के लिए पड़ोसी जिलों के जिलाधिकारी से बात की गई है। मेडिकल सप्लाई चेन बनाने केलिए दवा व्यापारी संगठनों से भी प्रशासन की बात हो रही है। जिलाधिकारी ने माना कि जरूरी सामान मिलने में समस्या हो रही हैं, लेकिन लोग परेशान न हों, एक दो दिन में सप्लाई चेन पूरी तरह दुरुस्त हो जाएगी और सामान मिलने में कोई समस्या नहीं आएगी।

बड़ी चुनौती है होम डिलीवरी

होम डिलीवरी के लिए क्षेत्रीय किराना दुकानदार अपने आसपास के लोगों को अपना मोबाइल नंबर देंगे। जिसे भी राशन की जरूरत होगी, वह फोन पर आर्डर बुक कराएंगे। चूंकि शहर की आबादी करीब 50 लाख है, ऐसे में किराना दुकानदार कितने लोगों को राशन की होम डिलीवरी सकेंगे, यह बड़ा सवाल है। अधिकारियों का भी मानना है कि होम डिलीवरी प्रक्रिया को पूरी तरह व्यवहार में लाने में वक्त लग सकता है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages