Latest News

Coronavirus : कानपुर में संदिग्ध मिले कोविड-19 हॉस्पिटल के नोडल अफसर डॉक्टर, किया क्वारंटाइन

कोरोना वायरस के पाजिटिव मरीज और संदिग्ध मरीजों के इलाज की व्यवस्था के लिए बनाए गए जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के नोडल अफसर डॉ. आदित्य कुमार में भी संक्रमण के लक्षण मिले हैं। सोमवार को वह हैलट के कोविड-19 हॉस्पिटल की फ्लू ओपीडी में दिखाने पहुंचे तो उनके समेत दो नमूने जांच के लिए लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) भेजे गए हैं। वहीं रविवार को थाईलैंड से आए दंपती समेत पांच नमूने भेजे गए थे। राहत की बात यह रही कि फ्लू ओपीडी में कार्यरत दिव्यांग वार्ड आया समेत दो की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।
मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर को बनाया है नोडल अफसर

आमजा भारत सवांददाता:- जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. आदित्य कुमार कोरोना वायरस के इलाज और व्यवस्थाएं देखने के लिए नोडल अफसर बनाए गए हैं। वह कोविड-19 हॉस्पिटल के आइसोलेशन वार्ड, फ्लू ओपीडी और संक्रामक रोग अस्पताल (आइडीएच) की व्यवस्था देख रहे हैं। इस वजह से उनका तीनों जगह आना जाना रहता है। इस बीच संक्रमित और संदिग्ध मरीजों का आेपीडी में इजाफा हो रहा है।

डॉक्टर ने बताया कि 2 दिन से उन्हें खांसी और बुखार है। वह साधारण फ्लू मान रहे थे लेकिन रात से सिर में दर्द शुरू होने पर घबरा गए। सोमवार सुबह फ्लू ओपीडी में दिखाया और कोरोना संक्रमण के लक्षण देखते हुए उनके थ्रोट और नेजल स्वाब का नमूना जांच के लिए लखनऊ भेजा गया है। ओपीडी में आए संदिग्ध मरीज महेंद्र का नमूना भी लेकर जांच के लिए भेजा गया है। डॉक्टर व युवक को क्वारंटाइन किया गया है।

थाईलैंड से लौटे दंपती का भी भेजा गया है नमूना

हैलट के कोविड-19 हॉस्पिटल की फ्लू ओपीडी में रविवार को थाईलैंड से आए दंपती समेत पांच संदिग्धों के नमूने लिए गए थे, जिन्हें जांच के लिए केजीएमयू लखनऊ भेजा जा चुका है। हैलट परिसर स्थित मेटरनिटी विंग में संचालित हॉस्पिटल की फ्लू ओपीडी में रविवार को सर्दी, खांसी-जुकाम और बुखार के 191 पीड़ित आए। पांच संदिग्धों में ग्वालटोली निवासी इनामुल और उनकी पत्नी रमसा फातिमा हैं, दोनों थाईलैंड से लौटे हैं। इसके अलावा तीन अन्य हैं।

हैलट की स्वास्थ्य कर्मी की रिपोर्ट नेगेटिव, 12 नमूने रिजेक्ट

सोमवार को लखनऊ से दो संदिग्ध की जांच रिपोर्ट आई, जिसमें हैलट की दिव्यांग वार्ड आया कनक मिश्रा की रिपोर्ट नेगेटिव है। फिलहाल वह 14 दिन होम क्वारंटाइन रहेंगी। वहीं स्वास्थ्य महकमे ने मेडिकल कॉलेज से भेजे गए 19 संदिग्ध के नमूनों में 14 ही भेजे थे। इनमें पांच यहां रिजेक्ट कर दिए थे बाकी वहां से रिजेक्ट होने की बात कही जा रही है।

मेडिकल कॉलेज प्रशासन का कहना है कि केजीएमयू से पता चला है कि वहां सिर्फ दो नमूने ही जांच के लिए भेजे गए। स्वास्थ्य महकमे के स्थानीय अधिकारी से लेकर निदेशालय संयंत्र के अधिकारी गाइडलाइन एवं मानक का हवाला देकर नमूने रिजेक्ट कर रहे हैं। इससे फैकल्टी में नाराजगी है। उनका कहना है कि लक्षण और मानक में समानता नहीं होती है, इसलिए सभी की जांच कराना जरूरी है।

No comments