Latest News

कोरोना वायरस को लेकर बरती जा रही सतर्कता

मास्क और दस्ताने पहनकर काम करते नजर आए चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी 
ट्रामा सेंटर में इमरजेंसी कोरोना वार्ड बनाया गया, चार बेड होंगे 

बांदा कृपाशंकर दुबे । कोरोना वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से बेहतर सतर्कता बरती जा रही है। यूपी-एमपी व अन्य शहरों से आने वाले मरीजों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य कर्मचारी और चिकित्सकों ने गुरुवार से मास्क और दस्ताने पहनकर काम करना शुरू कर दिया है। जिला अस्पताल और ट्रामा सेंटर का बदला हुआ नजारा देखकर लोग भी कोरोना वायरस को लेकर सकते में नजर आ रहे हैं। स्वास्थ्य महकमा
ट्रामा सेंटर में मास्क लगाकर काम करते चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मचारी 
लगातार कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों को अलग उपचार मुहैया कराने और उन्हें अलग से भर्ती कराए जाने के इंतजामात कर रहा है। जिलाधिकारी अमित सिंह बंसल के निर्देश पर ट्रामा सेंटर की ऊपरी मंजिल में गुरुवार को चार बेड का एक कोरोना इमरजेंसी वार्ड बनाया है। यह वार्ड सभी मरीजों के लिए नहीं बल्कि कोरोनो वायरस से पीड़ित लोगों के लिए है। आम जनता के साथ ही स्वास्थ्य कर्मचारी और चिकित्सक भी कोरोना वायरस को लेकर सकते में हैं। गुरुवार को जब जिला अस्पताल और ट्रामा सेंटर में चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मचारी पहुंचे तो वहां का नजारा ही बदला नजर आया। सभी चिकित्सक जहां हाथों में दस्ताने और मुंह पर मास्क लगाए नजर
ट्रामा सेंटर की ऊपरी मंजिल में बनाया गया कोरोना इमरजेंसी वार्ड 
आए वहीं स्वास्थ्य कर्मी भी मास्क से अपना मुंह ढके हुए थे। हाथों में दस्ताने भी नजर आए। स्वास्थ्य कर्मियों और चिकित्सकों का यह हाल देखकर अस्पताल पहुंचने वाले हर किसी मरीज व तीमारदार की कोरोना वारयस को लेकर धड़कनें तेज होती रहीं। डाक्टरों का कहना है कि चित्रकूटधाम मंडल मुख्यालय के अलावा मप्र और अन्य इलाकों के लोग भी कभी-कभी उपचार के लिए ट्रामा सेंटर आते हैं। कौन सा व्यक्ति कोरोना वायरस से पीड़ित है, यह पहचान पाना अभी संभव नहीं है। इसके लिए सावधानी बरती जा रही है। चिकित्सकों ने लोगों से भी सतर्कता बरतने की अपील की है। कहा है कि संभव हो सके तो मास्क का इस्तेमाल जरूर करें।

रोडवेज कर्मचारियों ने मांगा बचाव का सामान 

बांदा। यूपी रोडवेज इंपलाइज यूनियन ने क्षेत्रीय प्रबंधक परिवहन निगम चित्रकूटधाम मंडल रीजन को दिए गए पत्र में बताया है कि कोरोना वायरस से कर्मचारियों के बचाव के लिए मास्क एवं सिनेटाइजर उपलब्ध कराया जाए। बताया कि उनकी रोडवेज बसें आगरा, लखनऊ आदि शहरों में रूट पर दौड़ती हैं। वहां के यात्री भी रोडवेज बसों में सफर करते हैं। ऐसे में चालक और परिचालक को कोरोना वायरस की चपेट में आने से बचाने के लिए मास्क और दस्ताने समेत सिनेटाइजर उपलब्ध कराया जाना अति आवश्यक है। रोडवेज चालक और परिचालकों ने मास्क आदि की उपलब्धता न होने पर रूट पर जाने से असमर्थता जाहिर की है। कहा गया है कि कोरोना वारयस के खतरे को ध्यान में रखते हुए जिस प्रकार सुरक्षित यात्रा के लिए चालकों और परिचालकों को महानगरों में थर्मस फ्लास्क एवं जतू उपलब्ध कराए जा रहे हैं, उसी प्रकार थी्र लेयर मास्क एवं उच्च गुणवत्ता के 60 से 70 डिग्री एल्कोहल वाले सेनेटाइजर आदि समस्त आवश्यक सामान उपलब्ध कराया जाए।


No comments