Latest News

सीमा पर जांच बाद मुहैया कराया भोजन-वाहन

परेदशियों के चेहरो में छाई खुशी

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । कोरोना वायरस महामारी के चलते लाक डाउन होने पर बाहरी लोगों का जत्था आने से उनकी जांच प्रशासन करा रहा है। जनपद के सड़कों पर सन्नाटा छाया रहता है। शहर के मोहल्लो व ग्रामीण क्षेत्रों में खाद्यान्न उपलब्ध कराने को वाहन, एम्बुलेंस भ्रमण कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 24 मार्च की रात आठ बजे तीन सप्ताह के लिए लाक डाउन घोषित किया तो जो जहां था वहीं थम गया। तीन दिन गुजरने
बस पर बैठे परदेशी।
के बाद लोगों की बेचैनी घर वापसी के लिए बढ़ने लगी। ट्रेन, बसे आदि बंद होने के चलते पैदल, बाइकों से ही निकल पड़े। हालाकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों को घर तक पहुंचाने के लिए बसों का इंतजाम शुरू कर दिया है। ऐसे में डिस्टेसिंग नजरअंदाज किया जा रहा है। जिला प्रशासन ने सीमाओं पर रोक कर बाहर से आए लोगों की जांच के अलावा भोजन आदि उपलब्ध करा रहा है। बस स्टैन्ड कर्वी से प्रयागराज व बांदा की ओर जाने वाले यात्रियों की जांच के बाद बसो से रवाना करने का सिलसिला जारी है।

प्रतिदिन बंटेंगें एक हजार लंच पैकेट
चित्रकूट। मुख्यालय के शंकर ढाबा के मालिक जयशंकर मिश्रा ने दूरदराज से आए लोगों को भोजन का पैकेट देने का बीड़ा उठाया है। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन एक हजार भोजन पैकेट मुहैया कराया जाएगा। इस पर भाजपा पदाधिकारियों ने जरूरतमंदों की सूची भेज कर खुद वाहवाही लूटने में जुटे हैं। यह जानकारी समाजसेवी श्री मिश्र ने दी है। इस अभियान में नगर पालिका परिषद के ईओ नरेन्द्र मोहन मिश्र ने भी मदद की बात कही है। इसी क्रम में स्टेशन रोड निवासी समाजसेवी गणेश मिश्रा ने दूरदराज से आने वाले लोगों को पांच सौ लंच पैकेट वितरित किया है।

यात्रियों की हो रही जांच
चित्रकूट। लाक डाउन का पालन कराने के लिए जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय के निर्देश पर बाहर से आने वाले यात्रियों की जांच की जा रही है। गंतव्य तक पहुंचाने के लिए वाहन के प्रबंध किए गए हैं। 

प्रशासन को सराहा 
चित्रकूट। बांदा, महोबा, प्रयागराज आदि जनपदों की ओर जाने वाली बसो में बैठने वाले यात्रियों को पहले बस स्टैन्ड में खड़े स्वास्थ्य कर्मी सेनेटाइज करते हैं। पूरी तरह जांच के बाद बस में बैठाने की व्यवस्था है। दूरदराज से थकहार कर आ रहे लोग भोजन व वाहन मुहैया होने पर जिला प्रशासन की सराहना करते देखे गए।

35 सौ लोगों को किया होम क्वारंटाइन
चित्रकूट। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को जिला प्रशासन ने टीमें गठित की है। ग्राम पंचायत क्षेत्रों में प्रधान व सचिव के माध्यम से बाहर से आने वाले लोगों की निगरानी की जा रही है। संदिग्ध लोगों का इलाज भी कराया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 35 सौ लोगों को घरों में क्वारंटाइन किया है। उन्हें कहा गया है कि 14 दिन तक घरों में आइसोलेट होकर रहे। ऐसे परिवार की देखरेख को आशा, एएनएम तैनात की गई है। सीएमओ डा विनोद कुमार यादव ने बताया कि बाहरी लोगों पर मुहर लगाने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए इंतजाम किया है।

तीन घरों में नोटिस चस्पा
चित्रकूट। सदर ब्लाक के तीन गांव के तीन घरों में विशेष संदेह होने पर स्वास्थ्य विभाग ने नोटिस चस्पा कराया है। घर पर रहने की सलाह दी है। निगरानी के लिए आशा, एएनएम तैनात हैं। 

बुन्देली सेना जिलाध्यक्ष ने बांटे लंच पैकेट
चित्रकूट। बुन्देली सेना के जिलाध्यक्ष अजीत सिंह ने लाक डाउन पर 25 गरीबों को लंच पैकेट मुहैया कराया है। उन्होंने जिलाधिकारी के अथक प्रयास से गुजरात के तीन, महाराष्ट्र के 18 तीर्थ यात्रियों को वाहन मुहैया कराने पर प्रशंसा की है। इसके अलावा पहाडी थाना क्षेत्र के पनौटी गांव के एक परिवार के मुखिया के मुम्बई में फंसे होने से परेशान है। ऐसे में उन्हें भी घर वापसी की व्यवस्था की जाए। बताया कि लंच पैकेट समाजसेवी जयशंकर मिश्रा ने उपलब्ध कराए हैं। सक्षम लोगों से गरीबों की मदद करने की अपील की है। 

गांव लौटे कामगारों की निगरानी में जुटे बीडीओ
मऊ (चित्रकूट)। खण्ड विकास अधिकारी राकेश शुक्ला ने पाठा क्षेत्र का भ्रमण किया। बरगढ़ इलाके के पाठा क्षेत्र में बाहर से आए हुए सैकड़ों कामगारों को सलाह दी। कोरोना वायरस के प्रति लोगों को सचेत कर रहे हैं। दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान तथा उत्तर प्रदेश के नोएडा, गाजियाबाद से आए सैकड़ों कामगारों को आइसोलेट रखने का सुझाव दिया। कोरोना महामारी संक्रमण की थर्मल चेकिंग कराने की बात कहीं गई। नजदीक स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में कोरोना वायरस की जांच को अतिशीघ्र व्यवस्था होगी। खण्ड विकास अधिकारी राकेश शुक्ला ने निर्देशित किया कि बिना जांच कराएं अपने परिवारों में घुलेमिले नहीं। कोरोना महामारी का संक्रमण बहुत तेजी से फैलता है। अपने साथ-साथ पूरे परिवार तथा गांव को खतरे में न डालने का सुझाव दिया।

No comments