प्रशासन,जानलेवा बीमारी तथा जिम्मेदारी के त्रिकोणीय समस्या में फंसा रेलवे ट्रैक इंजीनियरिंग कर्मी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, March 24, 2020

प्रशासन,जानलेवा बीमारी तथा जिम्मेदारी के त्रिकोणीय समस्या में फंसा रेलवे ट्रैक इंजीनियरिंग कर्मी

रेलवे (पवन कश्यप)-जान हथेली पर रखकर समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभा रहा ट्रैक इंजीनियरिंग विभाग 

"एक तरफ जहां पूरा देश वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहा हैं,जिसके रोकथाम व सुरक्षा के लिए केन्द्र व राज्य सरकारों ने, सभी से घर में रहकर इस महामारी से बचने का आह्वान किया है, वही दूसरी तरफ मीडिया, पुलिस व चिकित्सा विभाग के कर्मी के अतिरिक्त एक और विभाग है जो बिना किसी प्रोत्साहन व भय के, अपनी जान की परवाह किये बगैर, देश व समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं |

"सरकार ने रेलवे की आम नागरिक  के यातायात पर तो रोक लगा दी है, किन्तु समाज मे वस्तुओं की खाध सामग्रियों की आपूर्ति के लिए, मालगाड़ी का संचालन नियमित तौर पर जारी रखा है |जिसके कारण उससे सम्बन्धित जितना भी विभाग है, जैसे कि ट्रैक इंजीनियरिंग विभाग, सिग्नल विभाग आदि, जिनका वर्क टू होम वर्क करना सम्भव  नही है |

जिसके लिए कार्य स्थल पर जाकर ही काम करना मजबूरी है | इस संकट की घड़ी में रेल कर्मचारी समाज को अपना सहयोग देने में स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहा है|

किन्तु उसके इस संघर्ष को ना तो समाज देख या जान पा रहा है और ना तो सरकार |जिसके कारण कर्मचारी महत्वपूर्ण समस्याओं से जूझ रहा है |

1-रेलवे यातायात को सुदृढ़ीकरण करने के लिए ट्रैकमैनों को समूह में कार्य करना पड़ रहा है, जिस कारण यह संक्रमण के दायरे में ज्यादा है| इसके बावजूद इन कर्मचारियों के पास ना तो कोई सैनिटाईज  स्प्रै मशीन है ना ही उसे सैनिटाईज करने के लिए कोई व्यक्ति, जो कि समय-समय पर उनके कार्यस्थल को सैनिटाईज करता रहे |

2-नौकरी पर जाने वाले रेल कर्मचारी के पास ना तो  उसके विभाग का कोई विशेष आदेश पत्र है और ना ही सरकार द्वारा इनके कार्यस्थल पर जाने की अनुमति का कोई सार्वजनिक घोषणा ही किया गया | जिसके कारण कार्यस्थल पर जाने वाले कर्मचारियों को पुलिस द्वारा लॉक डाऊन नियम के तहत रोका जा रहा, और  कुछ पर पूर्ण जानकारी ना होने पर  कार्यवाही भी की जा रही | जिस कारण कर्मचारी रेल व पुलिस प्रशासन के बीच पीस रहा है |

3- कर्मचारी  पूरे देश में जारी लॉक डाऊन का पालन करें या रेल प्रशासन की जिम्मेदारी निभाये या स्वयं को बचाये यह उसके लिए चिन्ता का विषय है |

सरकार की यह नैतिक व राजनैतिक जिम्मेदारी है कि- वह इस संकट की घड़ी में, अपने प्राणों की परवाह किये बगैर अपनी ड्यूटी कर रहे उन तमाम कर्मचारी व विभाग का पूर्ण जानकारी  सार्वजनिक करें तथा पुलिस प्रशासन को एक सूची उपलब्ध कराये,

जिसमे उन तमाम विभागों व कर्मचारी की जानकारी हो, जिन्हें लॉक डाऊन मे कार्य करने के लिए स्वीकृति सरकार द्वारा है,साथ ही उनके विभाग की ओर से भी कोई वर्क आन लॉक डाऊन की स्वीकृति पत्र शीघ्र जारी करे व उनके कार्य अनुमति की जानकारी संबधित लॉक डाऊन प्रशासन  विभाग के साथ साझा करे |जिससे वह बिना किसी अवरोध के कार्य स्थल पर जा सके |

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages