Latest News

कोरोना का असर: मस्जिदों में बन्द रहे ताले नहीं हुई जुमे की नमाज

फतेहपुर, शमशाद खान । कोरोना वायरस के संक्रमण से देश वासियो को बचाने के लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 21 अप्रैल तक लॉक डाउन की घोषणा करते हुए देशवासियो से इस दौरान घरो में ही रहने की अपील की गयी है। पीएम की अपील एवं देश भर में कोरोना संक्रमण को देखते हुए सड़के पूरी तह से बन्द है। लॉक डाउन के दौरान पड़ने पहले जुमा के दिन जनपद की सभी मस्जिदों में ताला लगा रहा आम दिनों में सड़को तक भरी रहने वाली मस्जिदें खामोश रही और उनके गेट पर ताला लटका हुआ दिखाई दिया। कोरोना वायरस के फैलने वाले संक्रमण से बचने एव पीएम की अपील पर लॉक डाउन को देखते हुए शहरकाजी शहीदुल इस्लाम अब्दुल्ला व कारी फरीद उद्दीन कादरी समेत अनेक मस्जिदों कमेटियों व इमामों के अलावा मुस्लिम धर्म गुरुओं द्वारा लोगो से मस्जिदों में एकत्र न होने व अपने अपने घरो में ही जोहर की नमाज अदा करने की अपील की गई थी।
तकिया तले स्थित चांदू मियां की मस्जिद में पड़ा ताला।  
गौरतलब है कि प्रत्येक शुक्रवार यानी जुमा को मुस्लिम समुदाय के लोगो द्वारा दोपहर के समय एकत्र होकर समूहिक रूप में मस्जिदों में नमाज अदा की जाती हैं। कोरोना संक्रमण फैलने व लॉक डाउन के कारण लोगो को मस्जिदों में एकत्र न होने की अपील की थी। जिसका असर देखने को मिला जनपद की किसी भी मस्जिद में सामूहिक रूप से जुमा की नमाज अदा नही की गयी। मस्जिदों के दरवाजों में ताले लगे रहे। और नोटिस बोर्ड पर कोरोना महामारी से बचने के लिये मस्जिद के बन्द होने की सूचना को चिपकाया गया। जिसमें लोगो को कोरोना जैसी गंभीर बीमारी से बचने के लिये घरो में रहने को कहा गया था। इस दौरान कमेटी के सदस्यों द्वारा मस्जिदों आने वाले लोगों से वापस घरो में लौटने और अपने अपने घरों में ही जोहर की नमाज अदा करने की अपील की गई। जिसके बाद लोग घरो को वापस लौट गये।

No comments