Latest News

लाक डाउन का हो रहा उल्लंघन, घर से निकल रहे लोग

सुबह के समय बाजार में लग रही जबरदस्त भीड़ 
पुलिस नहीं रोक पा रही है लोगों को, हालात हो रहे बदतर 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । सोमवार को लाक डाउन के छठवें दिन लोग अपने घरों से बाहर निकले। सोशल डिस्टेंसिंग का कोई पालन नहीं हो पा रहा है। सुबह के समय खरीददारी को लोगों का हुजूम निकल रहा है। बाजार में देखी जा रही जबरदस्त भीड़ से लाकडाउन का जरा भी असर नजर नहीं आ रहा है। शहर के विभिन्न स्थानों पर लोग अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं। चैराहों पर तैनात पुलिस भी सुस्त होकर कुर्सियों में बैठी नजर आती है। आखिर वह करे भी क्या, पब्लिक है कि तमाम बहाने बनाकर मजबूरी दर्शा देती है और पुलिस वाले
ये है लाक डाउन का पालन: सोमवार की सुबह मुख्य बाजार में उमड़ी भीड़
लोगों को जाने देते हैं। अब सख्ती बरतने की जरूरत है। बिना सख्ती के लाक डाउन का पालन होना पाना संभव नहीं है। सोमवार को लाक डाउन का छठवां दिन था। इन छह दिनों में पुलिस कभी सख्त तो कभी नरम नजर आ रही है, लेकिन लाक डाउन का सख्ती से पालन नहीं हो पा रहा है। शहर में तो पुलिस भ्रमण कर रही है लेकिन गली-कूचों में लाकडाउन का कोई मायने नहीं है। सुबह 6 बजे से नौ बजे तक लोग आवश्यक सामग्री की खरीददारी करने के लिए अपने घरों से बाहर निकलते हैं। इस दौरान अगर कुछ सामग्री खरीददारी से छूट गई
महोबा बार्डर के गांवों का भ्रमण करते डीएम अमित सिंह बंसल और एसपी सिद्धार्थ शंकर मीणा
तो दोबारा जाने में उन्हें पुलिस की घुड़की और लाठियों का सामना करना पड़ रहा है। आवश्यक सामग्री घर-घर पहुंचाए जाने के दावे तो जैसे हवाहवाई साबित हो रहे हैं। अभी तक यह नहीं तय हो पाया है कि कौन सा हथठेलिया चालक कहंा और किस मुहल्ले में सब्जी की बिक्री करेगा। लाक डाउन के छठवें दिन अब घरों में कैद रहे लोग बाहर की ओर भाग रहे हैं। सड़क पर खड़ी पुलिस डंडा दिखाकर लाक डाउन का पालन करा रही
रोडवेज बस स्टैंड के बाहर बाहर से आए लोगों की लगी भीड़
है। शहर के कालूकुआं इलाके में लाक डाउन के दौरान निकले बाइक सवारों और पैदल लोगों को रोककर पुलिस ने पूछतांछ की। कई बाइक सवारों को बैरंग वापस कर दिया। इसके अलावा अन्य लोगों से भी सख्ती के साथ पूछतांछ की जा रही है। लाक डाउन का पालन कराने के लिए पुलिस अपना काम कर रही है लेकिन अब आवश्यक सामान लेने या फिर अन्य गंभीर कारणों के चलते लोगों को मजबूरन अपने घरों से बाहर निकलना पड़ रहा है। 

No comments