Latest News

नवरात्र पर खूब खाएं फल लॉक डाउन के कारण इस बार नहीं होंगे महंगे

नवरात्र के लिए थोक फल मंडी में भारी मात्रा में मंगाए गए फल अब कारोबारियों को भारी पड़ रहे हैं। कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन से ये फल दूसरे शहरों में भी नहीं जा पाएंगे। ऐसे में फलों की मांग घटी है। इसका असर कीमतों पर भी पड़ा है। खास बात ये है कि हर साल नवरात्र पर नारियल के दाम चढ़ जाते थे, लेकिन इस बार मांग कम होने से ये बहुत ही कम रेट पर मिलने की उम्मीद है।
चकरपुर मंडी में हर तरफ नजर आ रहीं फल की पेटियां

कानपुर आमजा भारत :- चकरपुर स्थित फल मंडी में इस समय हर ओर फल ही फल की पेटियां नजर आ रही हैं। कहीं संतरा भरा है तो कहीं मुसम्मी। पपीता और नारियल के लिए तो ये वैसे भी बहुत ज्यादा बिक्री वाला समय होता है, लेकिन इस बार लॉकडाउन से सारा गणित बिगाड़ दिया है। नवरात्र बुधवार से हैं, लेकिन कारोबारियों के पास इतना नारियल है कि रखने की जगह ही नहीं हैं। कई जगह तो नारियल भरे ट्रक खड़े हैं। कारोबारियों के मुताबिक थोक बाजार में इस समय तकरीबन 20 ट्रकों में चार लाख से ज्यादा नारियल है। ये काकीनाड़ा और सोनपेठा से आया है।

बाजार में 300 टन से ज्यादा संतरा

पिछले सप्ताह के मुकाबले इसके दाम से दो से चार रुपये की कमी आई है। गुमटी के फल कारोबारी अशोक कुमार सोनकर का कहना है कि बाजार में इस समय तीन सौ टन से ज्यादा संतरा मौजूद है। कारोबारियों को नवरात्र में अच्छी बिक्री की उम्मीद थी, लेकिन अब तक तीन से पांच रुपये प्रति किलो तक दाम गिर चुके हैं। इसी तरह विजय नगर निवासी फल कारोबारी राजेंद्र यादव का कहना है कि एक गाड़ी में 15 टन मुसम्मी आती है। वर्तमान में 12 ट्रक स्टॉक है। जूस की दुकानें बंद हैं। मांग बिल्कुल कम हो गई है। पपीता का बाजार में आठ ट्रक माल स्टॉक में है। एक ट्रक मेें करीब 17 टन माल आता है। संयुक्त व्यापार मंडल चकरपुर मंडी के सचिव नीतू ङ्क्षसह का कहना है कि नवरात्र को देखते हुए कारोबारियों ने भारी मात्रा में फल मंगा लिए थे, लॉकडाउन की वजह से इनकी कीमतों में गिरावट आ रही है।

ये है फलों की कीमत (प्रति किलो)

फल             पिछले सप्ताह      आज

संतरा 25-30 22-25

मुसम्मी 21 मांग नहीं

पपीता 24-25 20

नारियल सोनपेठा 20 18

नारियल काकीनाड़ा 30 25

नोट : नारियल की कीमत प्रति पीस के हिसाब से है।  

No comments