Latest News

लाॅक डाउन तक बंदरो, याचकों को भोजन का लिया संकल्प

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। कोरोना लॉक डाउन के चलते भुखमरी की समस्या से जूझ रहे यूपी-एमपी के मध्य स्थित सुप्रसिद्ध तीर्थ कामदगिरि पर्वत के बेजुबान जीव जंतुओं को बचाने की मुहिम तेज हो गई है। क्रेशर कारोबारी एवं समाजसेवी महेश प्रसाद जायसवाल ने जिला खनिज अधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह के साथ चित्रकूट पहुंच कर बंदरो को सवा कुंतल चने का भंडारा कराया। साथ ही याचकोें, बन्दर और गौवंशो की सेवा लगातार करने का संकल्प लिया है।
दुनिया भर में कहर बरपाने के बाद भारत में जड़े मजबूत करने में जुटी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का प्रकोप रोकने के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार गंभीरता से काम कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आम जनमानस से घरो में रहकर कोरोना को हराने में सहयोग की अपील करते हुए 21 दिनों के लिए लॉकडाउन का ऐलान किया गया है। प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी लॉक डाउन का कड़ाई से अनुपालन कराने में जुटे हुए है। सरकार के आवश्यक वस्तुओ और दवाओं आदि की दुकाने खोलने में छूट दिए जाने के कारण आम जन मानस
चना खिलाते समाजसेवी व खनिज अधिकारी।
को ज्यादा दिक्क्तों का सामना नहीं करना पड़ रहा है। जबकि लॉक डाउन के चलते तीर्थ यात्रियों का आवागमन ठप्प होने का व्यापक असर धर्म नगरी चित्रकूट के हजारो बेजुबान जीव जन्तुओ और भिखारियों के जीवन पर पड़ रहा है। धर्म नगरी चित्रकूट के यूपी-एमपी के मध्य बसे होने के कारण सरकारी तौर पर भी बेजुबानो की समुचित मदद नहीं हो पा रही है। जिससे बेजुबानो के समक्ष भुखमरी की समस्या कड़ी हो गई है। इधर लाक डाउन के बाद लगातार बेजुबानो को भुखमरी से बचाने के लिए समजसेवियो के हाथ आगे बढ़ रहे है। चना ,पुड़िया आदि खाद्य सामग्री पाकर बेजुबानो में फिर से चेतन्यता आ रही है। क्रशर कारोबारी एवं सामजसेवी महेश प्रसाद जायसवाल ने जिला खनिज अधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह के साथ कामदगिरि परिक्रमा में पहुँच कर पर्वत पर रहने वाले बंदरो को सवा कुंतल चने का भंडारा कराया। इस मौके पर समाजसेवी श्री जायसवाल ने कहा कि कोरोना के प्रकोप के चलते पूरे देश में लॉक डाउन लगा हुआ है। ऐसे में तीर्थ यात्रियों का आवागमन ठप हो गया है। बंदरो, गौवंशो और याचकों के समक्ष भुखमरी की समस्या उत्पन्न हो गई है। जीवन को बचाने के लिए आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि लाक डाउन तक लगातार वह बंदर और याचकों की सेवा करते रहेंगे। कामदगिरि प्रमुख द्वार के संत मदन गोपाल दास महाराज ने कामदगिरि पर्वत के जीव जन्तुओ की मदद के लिए हाथ बढ़ा रहे लोगो को बधाई देने के साथ उज्जवल भविष्य की ेकामना को भगवान श्री कामतानाथ से प्रार्थना की है।

No comments