उरई में राप्तीसागर से डेढ सौ यात्रियों के उतरने से हड़कंप - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, March 26, 2020

उरई में राप्तीसागर से डेढ सौ यात्रियों के उतरने से हड़कंप

उरई(जालौन), अजय मिश्रा । कोरोना वायरस से निपटने के लिए चल रहे लाॅकडाउन को लेकर आज भी पुलिस प्रशासन के आलाधिकारी सक्रिय रहे। लेकिन उस समय हड़कंप मच गया जब पता चला कि चेन्नई से आने वाली राप्तिसागर एक्सप्रेस से करीब डेढ सौ लोग रेलवे स्टेशन उरई पर उतर चुके है। 
   लाॅकडाउन के साथ ही 21 दिन तक किसी भी तरह से सवारियों के आने जाने के सारे इंतजाम ठप्प कर दिए है। जिसके तहत रोडवेज बसें, प्राइवेट बसों के साथ ही टेªनों का आना जाना बंद चल रहा है। आज पूर्वान्ह बिना किसी सूचना के चेन्नई से आने वाली राप्तिसागर एक्सप्रेस रेलवे स्टेशन उरई पर रूकी और उससे सवारिया उतरी तो जीआरपी एवं आरपीएफ में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में इसकी सूचना जिला प्रशासन को दी गई तब अपर जिलाधिकारी प्रमिल कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक डा. अवधेश सिंह, क्षेत्राधिकारी संतोश कुमार,
टेªन से उतरे लोगों से पूंछतांछ करते अधिकारी
कोतवाल शिवगोपाल वर्मा पुलिस फोर्स के साथ रेलवे स्टेशन पहुंचे। जहां पहले से ही जीआरपी, आरपीएफ फोर्स द्वारा यात्रियों को रोक कर रखा गया था। अधिकारियों ने तत्काल चिकित्सकों की टीम बुलाकर सभी यात्रियों की थर्मल स्केनिंग कराई। इन यात्रियों में जनपद जालौन के साथ ही इटावा, भिंड, औरैया जनपदों के लोग शामिल थे। जिसमें तमिलनाडू, रास्ते में पड़ने वाले अन्य प्रदेशों में काम करने वाले बैंडर तथा मजदूर शामिल थे। जो लाॅकडाउन से धंधा पानी बंद होने के बाद घरों को लौट रहे थे। बाद में सभी 134 यात्रियों को उनके गांव भिजवाने के लिए रोडवेज बसों को बुलवाया गया। जहां से उन्हे घर भेज दिया गया। हालांकि उनका पूरा नाम पता एवं मोबाइल नंबर पुलिस ने दर्ज कर लिया है और चेतावनी दी कि अगर किसी में संक्रमण पाया जाता है तो वह नजदीकी अस्पताल में इसकी सूचना दे जिससे समुचित इलाज मिल सके। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages