Latest News

कोरोना: तीर्थ स्थल, होटल, लाज, धर्मशालाओं की बढ़ी निगरानी

खाली करने के निर्देश, 31 तक होगी सूक्ष्म गंगा आरती

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। देश इन दिनो कोरोना वायरस से अस्त-व्यस्त है। मप्र सरकार ने चित्रकूट के मठ-मंदिरों को 31 मार्च तक बंद रखने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा होटल संचालकों को हिदायत दी गई है कि पूर्णरूप से खाली कराएं। आनलाइन बुकिंग को निरस्त कर दिया जाए। रामघाट में होने वाली गंगा आरती भी स्थगित की है।

बैठक करते महंत
गौरतलब हो कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को महामारी घोषित किया है। इसे लेकर देश में पूरी सतर्कता बरती जा रही है। स्कूल, कालेज बंद व सार्वजनिक स्थलों पर भीड न एकत्र करने की अपील की है। बुधवार को मप्र चित्रकूट के एसडीएम हेमकरण धु्रवे ने होटल, लाज एवं धर्मशाला संचालकों के साथ राम मोहल्ला स्थित राम जानकी मंदिर में बैठक की। बताया कि लाखो श्रद्धालु दर्शन को आते हैं। कोरोना वायरस के चलते सुरक्षा की दृष्टि से कामतानाथ, प्रथम मुखार बिन्द, हनुमानधारा, सती अनुसुइया, गुप्त गोदावरी 31 मार्च तक बंद रखे जाएगें। केवल पूजापाठ व भोगप्रसाद के लिए मंदिर के पट खुलेंगें। मंदिर के पुजारी ही गर्भगृह में प्रवेश करेंगें।
मंदिर के बाहर से दर्शन करते श्रद्धालु।
उन्होंने बताया कि सतना जनपद में कोई प्रकरण नहीं मिला है। कोरोना से बचने को एहतियात बरती जा रही है। उन्होंने अपील किया कि 31 मार्च तक प्रभु की आराधना अपने निवास स्थल से करें। दर्शन को न आएं। इसके अलावा उन्होंने होटल, धर्मशाला संचालकों से कहा कि गुरुवार को 12 बजे तक हरहाल में खाली करा लें। बुंकिंग आदि निरस्त किए जाए। इस दौरान एसडीओपी, नायब तहसीलदार, थाना पुलिस आदि मौजूद रहे।

इसी क्रम में श्री मंदाकिनी सेवा ट्रस्ट ने बैठक कर प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार कोरोना वायरस से बचाव को निर्गत एडवाइजरी के दृष्टिगत रामघाट में आयोजित गंगा आरती 31 मार्च तक स्थगित किया है। आरती सूक्ष्म रूप से चलती रहेगी। इस मौके पर कामतानाथ के महंत गदन गोपाल दास, महंत दिव्यजीवन दास, अतुल प्रताप सिंह, अश्वनी अवस्थी, प्रमेन्द्र प्रताप सिंह, विकास मिश्रा, आशीष पाण्डेय, पुरुषोत्तम, शुभमराय त्रिपाठी आदि मौजूद रहे।

No comments