लॉकडाउन कानपुर: सोशल मीडिया में भ्रामक सूचना फैलाई तो सख्त कार्रवाई, उन्नाव में दो पर मुकदमा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, March 24, 2020

लॉकडाउन कानपुर: सोशल मीडिया में भ्रामक सूचना फैलाई तो सख्त कार्रवाई, उन्नाव में दो पर मुकदमा

कोरोना वायरस के खतरे को रोकने के लिए जनता कर्फ्यू के बाद सरकार ने लॉक डाउन का ऐलान किया है। घर से बाहर न निकलने की अपील के साथ पुलिस लोगों को हिदायत भी दे रही है। ऐसे में कुछ अराजक तत्व सोशल मीडिया पर फर्जी सूचनाएं और वीडियो वायरल करके असहज स्थितयां उत्पन्न कर रहे हैं, ऐसे लोगों से पुलिस सख्ती से निपट रही है। रविवार को कानपुर में वायरल हुए एक वीडियो को लेकर एसएसपी को मीडिया में स्पष्ट करना पड़ा था, वहीं मंगलवार को उन्नाव में भ्रामक वीडियो वायरल करने पर दो लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।
कानपुर में वायरल हुआ था वीडियो

आमजा भारत संवाददाता:- जनता कर्फ्यू के दौरान दोपहर बाद सोशल मीडिया पर चार ऐसे वीडियो वायरल हुए थे, जिसमें दावा किया गया था कि कानपुर पुलिस सड़क पर निकलने वालों की पिटाई कर रही है। यह वीडियो डीजीपी हितेश चंद्र अक्स्थी तक पहुंच गए थे। पुलिस मुख्यालय लखनऊ से तत्काल एसएसपी अनंत देव से जवाब तलब किया गया। एसएसपी ने क्राइम ब्रांच की टीम को जांच का आदेश दिया। जांच में पता चला कि ये चारों वीडियो कानपुर क्या यूपी के ही नहीं है।

उच्चाधिकारियों को भेजे गए स्पष्टीकरण में एसएसपी ने लिखा है कि चारों वीडियो राजस्थान के विभिन्न शहरों से हैं। मारपीट कर सहे पुलिस वालों ने जिस तरह की कैप पहनी हुई है, उत्तर प्रदेश पुलिस ऐसी कैप का प्रयोग नहीं करती है। दूसरा, जिन स्थानों के वीडियो हैं उनमें दिख हे डिस्प्ले बोर्ड पर जयपुर, उदयपुर और बीकानेर आदि शहरों के नाम अंकित हैं। एसएसपी ने कहा था कि मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं। जिन लोगों ने कनपुर पुलिस को बदनाम करने की कोशिश की है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

उन्नाव में दो पर लिखा गया मुकदमा

उन्नाव सदर कोतवाली पुलिस ने सोमवार देर रात फर्जी सूचना के साथ वीडियो वायरल करने के मामले में दो लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। सदर कोतवाली प्रभारी दिनेश चंद्र मिश्रा ने सोमवार देर रात रवि शंकर पाल और धर्मेंद्र शुक्ला के खिलाफ कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया। युवकों द्वारा उन्नाव में यू-ट्यूब और ट्विटर पर 22 मार्च को कथित तौर जनता कर्फ्यू के दौरान बाहर निकलने वालों को उन्नाव पुलिस द्वारा लाठी-डंडों से पीटने का वीडियो अपलोड किया था।

आरोप है कि अपलोड वीडियो किसी अन्य स्थान और मौके का था। वीडियो को एडिट करके कर्फ्यू और अन्य स्थान पर पुलिस के एक्शन को जोड़ा गया है। कोतवाली प्रभारी द्वारा दर्ज कराए मुकदमे में धारा 420, 500, 67 के तहत कार्रवाई की गई है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages