Latest News

होम डिलीवरी संग प्रशासन ने तय किए फुटकर राशन के दाम,

कानपर आमजा भारत सवांददाता:- कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिए देश में घोषित लॉकडाउन का कुछ कारोबारियों ने फायदा उठाना शुरू कर दिया है, सुबह के समय दुकानें खोले जाने की छूट के बीच आवश्यक दैनिक वस्तुओं का मनमाना दाम वसूल रहे हैं। हालांकि प्रशासन की सख्ती बरकरार है और बीते दो दिनों में 19 दुकानादारों पर मुनाफाखोरी में मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। इन सबको देखते हुए प्रशासन ने कुछ फुटकर सामान की दरें तय कर दी हैं।

शहर में लॉकडाउन के चलते सुबह 4 से 11 बजे तक दुकान खोलने की छूट दी गई है। साथ ही निर्धारित दाम में वस्तुओं को बिक्री करने और ग्राहकों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के सख्त आदेश दिए गए हैं। इसके बावजूद कुछ दुकानदार मुनाफा कमाने के लिए मनमाने दाम वसूल रहे हैं।

जिलाधिकारी डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी का कहना है कि कालाबाजारी को लेकर प्रशासन सख्त है। अब चौबीस घंटे के लिए शहर में दुकानदारों को अधिकृत करके होम डिलीवरी शुरू कर दी गई है। संकट का समय है, ऐसे में कालाबाजारी करने वाले अपराधी ही नहीं बल्कि समाज और मानवता के साथ देश के सबसे बड़े दुश्मन हैं। अावश्यक वस्तुओं की उपलब्धता बाजार में हो, इसके लिए जरूरी सामान लाने वाला कोई वाहन नहीं रोका जाएगा, ऐसे आदेश दिए गए हैं। दुकानों से बिकने वाले आवश्यक वस्तुओं के दाम तय कर दिए गए है, अधिक रेट वसूलने वालों की शिकायत कर सकते हैं।

प्रशासन द्वार तय किए गए भाव रुपये में

सामान : प्रति क्विंटल,  प्रति किग्रा

आटा : 2600-2800,  30-32

अरहर दाल : 7500-9000, 85-100

उर्द काली : 7000-9000, 80-100

उर्द हरी : 12000-17000, 130-180

चना दाल : 5500-6200, 65-70

मूंग दाल :  9500-10000, 105-110


मटर दाल : 5000-5500, 60-65

मसूर दाल : 5500-6000, 65-75

गेहूं : 2200-2500, 24-28

चावल : 3000-10000, 32 से 110 तक

(बाजार में खाद्य वस्तुओं के थोक भाव के क्रमश: फुटकर भाव)

No comments