एलआईसी का आईपीओ लाने के विरोध में उतरे कर्मचारी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, March 12, 2020

एलआईसी का आईपीओ लाने के विरोध में उतरे कर्मचारी

जालौन (उरई), अजय मिश्रा । देश की सबसे बड़ी और सार्वजनिक बीमा कंपनी की हिस्सेदारी का आईपीओ लाने का ऐलान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट में किया था। जिसके विरोध में आॅल इंडिया इंश्योरेंश एम्प्लाइज एशोसिएशन के तत्वावधान में भारतीय जीवन बीमा निगम की स्थानीय शाखा में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें जिसमें मुख्य अतिथि क्षेत्रीय महासचिव राजीव निगम ने कहा कि एलआईसी का हमेशा से ही देश के निर्माण में अहम योगदान रहा है। एलआईसी ने अपने कारोबार के मामले में 5 करोड़ के कैपिटल बेस शुरूआत कर अब तक 53 हजार करोड़ से अधिक की वैलूएशन सरप्लस बनाई है। यह सफर कंपनी ने बिना किसी निजीकरण के ही तय किया है। एलआईसी वर्षों से राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका निभा रही है, इसलिए इसकी सूचीबद्धता का प्रस्ताव राष्ट्र के हित में नहीं है। उन्होंने कहा कि एलआईसी के निजीकरण का कोई भी कदम आम आदमी के भरोसे को कम ही करेगा। इससे आर्थिक संप्रभुता पर भी चोट पहुंचेगी।
विरोध की रणनीति बनाते पदाधिकारी।
एलआईसी का मकसद कम कीमत पर सामाजिक और आर्थिक तौर पर पिछड़े लोगों को इंश्योरेंश कवरेज देना है। निजीकरण से कंपनी के उद्देश्य प्रभावित होगें और वह सेवा के बजाए मुनाफे पर फोकस करने वाली कंपनी बन जाएगी। जिसका सभी कर्मचारी विरोध करते हैं। सरकार को इस फैसले को जल्द वापस लेना चाहिए, अन्यथा यह संघर्ष बड़े स्तर पर जारी रहेगा। मंडल अध्यक्ष अमित मिश्रा ने कहा कि एलआईसी के हिस्से को शेयर बाजार में बेचने की सरकार की घोषणा के खिलाफ आगामी 17 मार्च को एआईआई एम्प्लाइज ऐशोसिएशन के बैनर तले सभी कर्मचारी एक घंटे की वाॅक आउट स्ट्राइक पर रहेंगे। मंडल सचिव अरूण तिवारी ने कहा कि अगस्त 2017 से कर्मचारियों की वेतन वृद्धि नहीं हुई है। मांग करने पर सरकार 10 प्रतिशत देने की बात कहती है। जबकि एलआईसी के कारोबार के हिसाब से वह 40 प्रतिशत वेतनवृद्धि की मांग कर रहे हैं। लेकिन सरकार ऐसा न कर कर्मचारियों का शोषण कर रही है। इस मौके पर संगठन सचिव इंदर गुप्ता, राजेश श्रीवास्तव, शाख सचिव अफसार अहमद खान, शाखा अध्यक्ष सुशील कुशवाहा के अलावा स्वाति सैनी, करिश्मा गौतम, काव्या कुमार, राधाकृष्ण गुप्ता, प्रहलाद कुशवाहा, ओपी वर्मा, प्रेमानंद, रिजवान अहमद, शेखर श्रीवास्तव, विमल सैनी, बीनू पंडित, करन गुप्ता, श्यामसुंदर, रामकिशोर, मुकेश कुमार, नरेंद्र कुमार, आशीष गुप्ता आदि मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages