Latest News

विकास कार्यो की प्रगति में शिथिलता लापरवाही बर्दाश्त नहीं

बिजनौर, (संजय सक्सेना)  जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय की अध्यक्षता में विकास भवन के सभाकक्ष में शासन के प्राथमिक विकास कार्यो की प्रगति, पोषण पखवाडा की समीक्षा एवं निराश्रित गोवंश के आश्रय स्थलों की स्थापना, क्रियान्वयन संचालन में प्रबंधन के अनुसरण हेतु जिला स्तरीय समिति की बैठक का आयोजन किया गया। 
जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि जो गौवंश अभी भी सडक पर घूम रहे हैं उन्हें जल्द से जल्द गौशाला में पहुंचाया जाए। गौशाला निर्माण कार्यदायी संस्थाओं के लिये कहा कि जिन गौशाला में कांटेदार बाउंड्री नहीं है वहां कांटेदार बाउंड्री तत्काल बनवाना सुनिश्चित करें. मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि सभी खण्ड विकास अधिकारी एवं अधिशासी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत से यह प्रमाण पत्र लें कि उनके ब्लाॅक एवं नगर पालिका/पंचायत में कोई गौवंश खुले में नहीं घूम रहे हैं व हरे चारे में निधारित प्रतिशत पर भी ध्यान दें. उन्होंने कहा कि उप्र शासन गौवंश के लिए गंभीर
है और इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाशत नहीं की जायेगी। 
जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय ने विकास कार्यो की समीक्षा बैठक करते हुए सभी सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि विकास कार्यो की प्रगति मे किसी भी प्रकार कीं शिथिलता एवं लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी और न ही विकास कार्यो में गुणवत्ता और मानक के साथ खिलवाड़ की अनदेखी की जाएगी। शासन विकास के प्रति गम्भीर और संवेदनशील है तथा विकास शासन की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से है और प्रदेश को विकसित प्रदेश की श्रेणी में लाने के लिए कटिबद्व है। अतः कोई भी अधिकारी विभागीय लक्ष्य के सापेक्ष लापरवाही न करें और सभी कार्यो को पूर्ण गुणवत्ता के साथ निर्धारित समय सीमा में पूरा करना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने समस्त अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि आईजीआरएस पोर्टल पर आने वाली शिकायतों का समय से पूरी गुणवत्ता के आधार पर निस्तारित करें। समाज कल्याण अधिकारी, पिछडा वर्ग कल्याण अधिकारी, दिव्यांजन संशक्तीकरण अधिकारी को निर्देश दिये कि जिन पात्र लाभार्थियों के पेशन संबंधित जांच पूर्ण हो चुकी है तथा लम्बित प्रकरणों का ब्लाॅक/तहसील स्तर से निस्तारण कराना सुनिश्चित करें, जिससे पात्र लाभार्थियों की पेंशन ससमय उनके खातों में भेजी जा सके यदि पेंशन से संबंधित कोई शिकायत संज्ञान में आती है तो संबंधित के विरूद्व कार्यवाही की जायेगी। जिलाधिकारी ने कहा कि जिस विभाग में भवनों के निर्माण कार्य चल रहे हैं उनकी पूरी गुणवत्ता जाॅच ले और कार्यदायी संस्था को समय.समय पर निर्देश देते रहे ताकि कार्य जल्द से जल्द पूरा हो सके। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि स्कूलों में पेयजल की समस्या पर विशेष ध्यान दिया जाए जिससे बच्चों को दिक्कत न हो. साथ ही पुस्तकें, यूनिफॉर्म, बैग आदि का शत प्रतिशत वितरण का सत्यापन तत्काल कराना सुनिश्चित करें। 
जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय द्वारा बेसिक शिक्षा की पौष्टिक आहार योजना, स्वास्थ्य विभाग के तहत विभागीय निर्माण के अपूर्ण कार्य के अलावा जननी सुरक्षा योजना में लाभार्थियों को भुगतान, जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम, बाल स्वास्थ्य गारन्टी योजनाएं, नियमिति टीकाकरण योजना, परिवार नियोजन योजना, लोनिवि में अधिक लागत की सड़क निर्माण, पुल निर्माण में पूर्ण परियोजनाओं की प्रगति, जल निगम विभाग की पाईप पेयजल योजना की प्रगति, छात्रवृत्ति, कृषि, सिंचाई, गन्ना, लोनिवि, महिला एवं शिुशु विकास कल्याण सहित अन्य विभागों की कार्यो की बिन्दुवार समीक्षा करते हुए सभी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये गये कि जिले को प्रदेश में अग्रणी बनाए रखने के लिए अपेक्षित प्रयास करें और सभी योजनाओं एंव कार्यक्रमों को निष्ठा और जिम्मेदारी के साथ क्रियान्वित करें। अधिकारियों को यह भी निदेश दिये कि विकास कार्यों में जो भी कमी है उसको पूरा करने के लिए अपने उच्चस्तर पर पत्राचार कर हमें भी अवगत कराना सुनिश्चित करें. मुख्य विकास अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि दो इन्जिनियर की समिति बनाकर बनी नई सड़कों का निरीक्षण कराना सुनिश्चिित करें। सडकों से संबंधित सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये की सडकों के निर्माण कार्यो में तेजी लाते हुए सडकों को गडढामुक्त करना सुनिश्चिित करें।
जिलाधिकारी ने पोषण अभियान जिला पोषण समिति के अंतर्गत आयोजित होने वाले पोषण पखवाडा की गहनता से समीक्षा करते हुए बैठक में उपस्थित सभी अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि दिनांक 13 मार्च,2020 को सभी विभागीय अध्यक्ष/ कार्यालया अध्यक्ष पोषण सपथ दिलाना सुनिश्चिित करें। उन्होंने स्वयं व बैठक में उपस्थित सभी अधिकारियों को पोषण शपथ भी दिलाई। साथ ही उन्होंने आयोजित पोषण पखवाडे में संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि जिसके जो कार्य दायित्व सौपे गये है उन्हें गंभीरता से सम्पन्न कराना सुनिश्चिित करें. 
इस अवसर मुख्य विकास अधिकारी कामता प्रसाद सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ. विजय कुमार यादव, परियोजना निदेशक विजय प्रकाश श्रीवास्तव, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी, उप निदेशक कृषि, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, मुख्य पशुचिकित्साधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, अधिशासी अभियन्ता विधुत/पी0डब्लू0डी/सिंचाई समस्त खण्ड विकास अधिकारी आदि समस्त संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

No comments