सपाइयों का प्रदर्शन, बर्बाद फसलों का मुआवजा मांगा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Monday, March 16, 2020

सपाइयों का प्रदर्शन, बर्बाद फसलों का मुआवजा मांगा

पीएम सम्मान निधि योजना से तमाम किसान वंचित
फसल बर्बाद होने से किसानों में हताशा-निराशा 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । समाजवादी पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने सोमवार को कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया और पिछले दिनों बारिश व ओलावृष्टि से किसानों की नष्ट हुई फसल का मुआवजा दिलाए जाने की मांग की। सपाइयों ने कलक्ट्रेट में केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकारों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रशासन के जरिए राज्यपाल को संबोधित पांच सूत्रीय ज्ञापन देकर किसानों को फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए पर्याप्त मुआवजा दिलाए जाने की मांग की।
कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन करते समाजवादी पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता 
बिजलीखेड़ा स्थित पार्टी कार्यालय में सोमवार को सपाइयों का जमावड़ा लगा। जिलाध्यक्ष शमीम बांदवी की अगुवाई में नारेबाजी करते हुए सपाइयों का जत्था कलक्ट्रेट पहुंचा। यहां कुछ देर के लिए सपा नेताओं ने धरना दिया। जिलाध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकारों की कथनी-करनी में भारी अंतर उनके व्यवहार में भी झलकता है। किसानों की रहनुमाई का दावा करने वाले सत्ता में बैठे लोग उनकी घोर उपेक्षा कर रहे हैं। तमाम किसान सम्मान निधि की पात्रता के दायरे में शामिल होने के बाद इस योजना के लाभ को तरस रहे हैं। सरकार मूक दर्शक बनी हुई है। दो दिनों पूर्व हुई भारी ओलावृष्टि और बारिश से खेत में खड़ी फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। किसानों में हताशा और निराशा है। चेतावनी दी कि किसान इसका बदला चुनाव में लेकर भाजपा को सत्ता से बेदखल कर देंगे। ज्ञापन में फसली नुकसान का निष्पक्ष सर्वे कराकर किसानों को शत-प्रतिशत मुआवजा, अन्ना मवेशियों पर रोकथाम, गोशाला में चारा-पानी की व्यवस्था, पेट्रोलियम पदार्थों में मूल्यवृद्धि वापस और खत्री पहाड़ विंध्यवासिनी मंदिर में पेयजल की व्यवस्था कराए जाने की मांग शामिल हैं। धरना-प्रदर्शन और ज्ञापन देने वालों में महासचिव प्रदीप यादव, प्रदीप जड़िया, कुदरत उल्ला, महेंद्र यादव, उमेश यादव, अजय चैहान, उर्मिला वर्मा, देव कुमार यादव, नंदकिशोर यादव, नितेश श्रीवास्तव, अजय निषाद, राकेश रैकवार, मुन्नराम, आमिर खां मन्नी समेत तमाम सपाई शामिल रहे। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages