Latest News

समाज की मुख्यधारा से जुड़ें महिलाएं: राज्य मंत्री

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर जागरुकता कार्यक्रम व पोषण पखवाड़े का हुआ शुभारंभ
लाभार्थियों को बांटे पिंक कार्ड, पांच मृतक आश्रितों को दी गई सहायता राशि

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। लोक निर्माण विभाग राज्य मंत्री चन्द्रिका प्रसाद उपाध्याय, बांदा-चित्रकूट सांसद आरके सिंह पटेल एवं जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला सुरक्षा एवं सशक्तिकरण से संबंधित कानूनों, प्रावधानों, योजनाओं के प्रति जागरूकता कार्यक्रम, पोषण पखवाडे़े का शुभारम्भ मंदाकिनी गेस्ट हाउस कालूपुर में मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर किया।

राज्य मंत्री चन्द्रिका प्रसाद उपाध्याय ने कहा कि सरकार चाहती है कि महिलाओं का सम्मान व उत्थान होना चाहिए। प्रधानमंत्री ने हरियाणा के कुरूक्षेत्र से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं का नारा दिया था। वहां पर बहुत बड़ा महाभारत का युद्ध हुआ। बेटियों को मां की कोख में मार दिया जाता था। आज वहां के अनुपात के बराबर बेटियां हुईं। भू्रण हत्या, अल्ट्रासाउण्ड पर भी कानून बनें। लोग दिमाग में यह बैठा लें कि बेटा, बेटी एक समान है। दोनों में अगर समान व्यवहार किया जाये तो समाज का उत्थान होगा। महिलाओं के साथ उत्पीड़न नहीं होगा। सरकार ने बहुत कड़ा कानून बनाया है। महिला का बयान नही साक्ष्य है। उसी के आधार पर अपराधी को दण्ड दिलाने का कानून सरकार ने बनाया है। आज यह लड़ाई वैचारिक है। कानून साथ है। महिलाओं को आगे आने की जरूरत है। बेटी, बेटा में कोई अंतर न समझें। महिलाएं समाज की मुख्य धारा से जुड़कर कार्य करें। जब अपने विचारों पर बदलाव लायेंगे तो स्वतः रामराज आयेगा। दहेज प्रथा पर रोक लगायें। दूसरें का धन लेने से कभी सम्मान नहीं बढ़ता है। उन्होंने कहा कि शासन से संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ लें।


सांसद आरके सिंह पटेल ने कहा कि भारत नारी प्रधान देश है। कुनबे में नारी संचालन होता रहा है। भारत सोने की चिड़िया कहा जाता था। आजादी के पहले मुगलों ने राज किया और उन्होंने नारी को पढ़ने से रोका। भारतीय परम्परा को नष्ट कर अपनी परम्परा को बढ़ावा दिया। अंग्रेजो से जब अंतिम आजादी मिली तो उसके बाद सरकारों ने नारी के लिए विभिन्न योजनाएं चलायी, लेकिन बुन्देलखण्ड के लोगों को आज भी लाभ नहीं मिला है। सरकार ने नारियों व बेटियों के लिए कई योजनाए लागू की है। जिनका आज धरातल पर कार्य हो रहा है। उज्जवला योजना, जननी सुरक्षा, मातृत्व वंदना, कन्या सुमंगला आदि विभिन्न योजनाओं का लाभ लें। बेंटियों को हाथ पीले करने के लिए ही न पढ़ायें उसे देश की रक्षा करने में भागीदारी करायें। प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री ने मजदूर व गरीब की बेटी के दुःख को देखते हुए कई योजनाएं लागू की है। सावित्रीबाई फूले ने सबसे पहले विद्यालय खोलकर नारियों को शिक्षा देने का कार्य किया जिसे याद किया जा रहा है। उन्होंने आशा, एएनएम, आंगनबाड़ी कायकत्रियों से कहा कि महिलाओं समेत गांव के अंतिम छोर के व्यक्ति तक सरकार की योजनाओं को पहुॅंचायें।

जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने कहा कि जहां नारियों की पूजा होती है वहां ईश्वर का वास होता है। महिलाएं हर जगह सम्मानित है। जहां पर सृजन होता है वहां अगर कार्य करती हैं तो मातृ शक्ति का सम्मान होता है। नारियों ने रानी लक्ष्मीबाई, दुर्गा व सरस्वती आदि रूपों पर भी कार्य किया है। शासन ने मातृ शक्ति के उत्थान के लिए योजनाएं संचालित की है। बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं बहुत बड़ी योजना है। इसमें बेटियों की सुरक्षा, स्वास्थ्य, शिक्षा सम्मान का कार्य हैं। पोषण पखवाडे का भी शुभारम्भ किया गया है। जिसमें विभिन्न चरणों पर कार्य होगा। कहा कि जब मातृ शक्ति स्वस्थ्य होगी तो जच्चा बच्चा भी स्वास्थ्य होगा। बच्चों को ज्यादा से ज्यादा शिक्षित करे। कहा कि महिला शक्ति के उत्थान को जिला प्रशासन ने जनपद स्तर पर कार्यक्रम करायें है। यह आकांक्षा जिला हैं। जिसमें स्वस्थ्य, शिक्षा आदि मुख्य बिन्दु हैं। आशा, आंगनबाड़ी की मेहनत के कारण जनपद की अच्छी रैंकिंग केन्द्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं पर रहती है। आंगनबाड़ी केन्द्र व विद्यालयों का कायाकल्प कर उन्नयन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं योजना को बढ़ावा देना है।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी डा विनोद कुमार, जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास मनोज कुमार, जिला प्रोबेशन अधिकारी रामबाबू विश्वकर्मा ने विभागीय योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी। जिला विकास अधिकारी आरके त्रिपाठी ने अतिथियों के प्रति आभार जताया। कार्यक्रम का संचालन शिक्षक साकेत बिहारी शुक्ल ने किया। इसके पूर्व अतिथियों ने ग्राम पंचायत खोही के लाभार्थियों को पिंक कार्ड वितरित किए। इसके अलावा विद्युत तार गिरने से मृत हुए पांच लोगों के परिजनों को सहायता राशि के चेक प्रदान किए गए। इस दौरान भाजपा महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष ममता सिंह, उपाध्यक्ष अंजू वर्मा, सीमा निगम, उर्मिला देवी एड, सांसद प्रतिनिधि शक्ति प्रताप सिंह तोमर, राजकुमार त्रिपाठी, नीरज शुक्ला आदि मौजूद रहे। 

No comments