Latest News

माननीय प्रधानमंत्री की बातों पर ध्यान दें...........

देवेश प्रताप सिंह राठौर
 ( वरिष्ठ पत्रकार)

आज पूरा भारत ही नहीं पूरा विश्व कोरोना वायरस से इतना ज्यादा ग्रसित हो गया है कि पूरा विश्व आज परेशान है और हमारे देश के प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी जिस तरह से उनके नेतृत्व में देश में कार्य चल रहे हैं मुझे लगता है उसे बेहतर कोई भी सरकार इससे अच्छा दिशा निर्देश कार्यों को नहीं कर सकती है आज गर्व है हमें अपने देश के मुखिया पर साथ में एक कोरोनावायरस से आप सभी लोगों से विशेष निवेदन है की जरूरत पड़ने पर ही बाहर जाएं नहीं घर पर ही रहें क्योंकि यह कोरोनावायरस चीन जैसे विश्व का सबसे अलग देश जो चीन है जिसकी नियत और रीत सवअलग चलती है वह आज पूरे विश्व को ऐसे कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है कि मानव मानव को बचाने के लिए परेशान है पूरा विश्व एक कैद हो गया है और मेरी जनता से गुजारिश है कि आप सब लोग अपने घर पर रहिए बच्चों के साथ रहिए जरूरत पड़े तो सामान लेने जाएं प्रधानमंत्री के दिए हुए दिशा
निर्देशों का पूरा पालन करें देश के अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा दिए गए निर्देशों का पुलिस प्रशासन का डॉक्टर का सभी लोगों का सहयोग आज जो अब प्राप्त मात्रा में देश को मिल रहा है यह एक बहुत ही अच्छी सोच के तहत हम लोग चल रहे हैं हमें लगता है करोना वायरस से हम बहुत जल्दी नियंत्रण पा लेंगे और हमारे प्रधानमंत्री और पूरा देश का हर नागरिक जिसमें विशेषता डॉक्टर स्वास्थ्य विभाग कर्मचारी हमारे पुलिसकर्मी सुरक्षाकर्मी इतनी मुस्तैदी से ड्यूटी दे रहे हैं कि मैं उनको हृदय से हृदय से बार-बार इन्हें प्रणाम करता हूं क्योंकि यह ईश्वर के रूप के रूप में आदेश के साथ संकटों में बचाने का कार्य कर रहे हैं देश द्वाराकोरोना वायरस पर देश को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि उन्होंने जब भी देश से जो कुछ भी मांगा है लोगों ने उन्हें निराश नहीं किया है. पीएम ने कहा कि वे आज सभी देशवासियों से कुछ मांगने आएं हैं. पीएम ने अपनी मांग बताते हुए कहा कि मुझे आपका कुछ सप्ताह चाहिए, कुछ समय चाहिए.

  आज मानव जाति को संकट, संकल्प-संयम ही बचाव - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने की जनता कर्फ्यू की अपीलपैनिक बॉइंग से बचें, डरकर न करें खरीदारीसंकल्प और संयम ही बचाव का रास्ता, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बार का संकट जैसा है जिसने पूरी मानव जाति को संकट में डाल दिया है. पीएम ने कहा कि जब प्रथम विश्व युद्ध हुआ था, दूसरा विश्व युद्ध हुआ था तो भी इतने देश प्रभावित नहीं हुए थे, जितना इस बार कोरोना वायरस की वजह से हुए हैं. उन्होंने कहा कि भारत के 130 करोड़ों लोगों ने कोरोना वायरस का डटकर मुकाबला किया है. बीते कुछ दिनों से ऐसा लग रहा है कि जैसा कि हम बचे हुए हैं, ऐसा लगता है कि हम निश्चिंत हो गए हैं. लेकिन ऐसा सही नहीं है. पीएम ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर बेफिक्र हो जाना सही नहीं है.आपका कुछ सप्ताह चाहिए
पीएम ने कहा कि उन्होंने जब भी देश से जो कुछ भी मांगा है लोगों ने उन्हें निराश नहीं किया है. पीएम ने कहा कि वे आज सभी देशवासियों से कुछ मांगने आएं हैं. पीएम ने अपनी मांग बताते हुए कहा कि मुझे आपका कुछ सप्ताह चाहिए, कुछ समय चाहिए. उन्होंने कहा कि अभी तक कोराना वायरस का कोई इलाज नहीं मिल पाया है, न ही इसका वैक्सीन बन पाया है.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ देशों में शुरुआती कुछ दिनों के बाद अचानक बीमारी का जैसे विस्फोट हुआ है. इन देशों में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है. भारत सरकार इस स्थिति पर, कोरोना के फैलाव के इस ट्रैक रिकॉर्ड पर पूरी तरह नजर रखे हुए हैहर नागरिक अपने कर्तव्य का पालन करेंपीएम ने कहा कि आज जब बड़े-बड़े और विकसित देशों में हम कोरोना महामारी का व्यापक प्रभाव देख रहे हैं. तो भारत पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, ये मानना गलत है. इसलिए इस वैश्विक महामारी का मुकाबला करने के दो मुख्य बातों की आवश्यकता है. पहला संकल्प और दूसरा संयम. आज 130 करोड़ देशवासियों को अपना संकल्प और दृढ़ करना होगा कि हम इस वैश्विक महामारी को रोकने के लिए एक नागरिक के नाते, अपने कर्तव्य का पालन करेंगे, केंद्र सरकार, राज्य सरकारों के दिशा निर्देशों का पालन करेंगे.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज हमें ये संकल्प लेना होगा कि हम स्वयं संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे. पीएम ने कहा कि इस तरह की वैश्विक महामारी में, एक ही मंत्र काम करता है- हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ. ऐसी स्थिति में जब इस बीमारी की कोई दवा नहीं है तो हमारा खुद का स्वस्थ बने रहना सबसे बड़ी आवश्यकता है. पीएम ने दूसरी बड़ी जरूरत संयम के बारे में कहा कि भीड़ से बचना संयम है. उन्होंने कहा कि कोरोना के खतरे से निपटने के लिए सोशल डिस्टेंशिंग बेहद जरूरी है और कारगर भी है. हमारा संकल्प और संयम इस बीमारी के प्रभाव को कम करने में बहुत बड़ी भूमिका निभा सकता है. बिना जरूरी घर से न निकलें बाहर पीएम ने लोगों को आगाह किया कि वे बिना जरूरत बाजार में न आएं. ऐसा कर वे अपने परिवार के साथ अन्याय करेंगे. पीएम ने कहा कि उनका देशवासियों के साथ आग्रह है कि आने वाले कुछ सप्ताह में जब बेहद जरूरी है तो ही घर से बाहर निकलें. जितना संभव हो सके आप अपना काम घर से ही करें.
पीएम ने कहा कि वे एक और आग्रह लोगों से करना चाहेंगे. उन्होंने कहा कि परिवार के जो भी सिनीयर सिटीजन हैं और घर से बाहर न निकलें. पीएम ने कहा कि हो सकता है कि मौजूदा पीढ़ी पुरानी कुछ बातों से परिचित न हो. उस समय जब युद्ध की स्थिति होती थी तो गांव-गांव ब्लैकआउट किया जाता था. गाड़ियों पर काले पेपर लगाए जाते थे. युद्ध न हो तो भी नगरपालिकाएं ब्लैक आउट का ड्रिल करवाती थीं. इसलिए वे आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन कर मांग रहे हैं, ये ह।. इस कर्फ्यू के दौरान कोई भी नागरिक घरों से बाहर न निकले, आवश्यक सेवाओं को छोड़कर वे अपने घर में ही रह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कार्य में सामाजिक-धार्मिक संगठनों को आगे आने को कहा. पीएम ने कहा कि पिछले 2 महीनों में लोग अनवरत रूप से सेवा कार्य में जुड़े हैं. पीएम ने इन्हें राष्ट्र रक्षक का नाम दिया है. पीएम ने लोगों से अपील की कि संकट के इस समय में लोग रूटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से जितना बच सकते हैं, उतना बचें. पीएम ने कहा कि कोरोना महामारी से पैदा हो रही आर्थिक चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए, वित्त मंत्री के नेतृत्व में सरकार ने  भी सुनिश्चित करेगी कि, आर्थिक मुश्किलों को कम करने के लिए जितने भी कदम उठाए जाएं, उन पर प्रभावी रूप से अमल हो.
प्रधानमंत्री ने कहा कि वे देशवासियों को इस बात के लिए भी आश्वस्त करते हैं कि देश में दूध, खाने-पीने का सामान, दवाइयां, जीवन के लिए जरूरी ऐसी आवश्यक चीजों की कमी नहीं होने दी जाएगी. इसके लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं.वेतन न काटे उच्च आय वर्ग प्रधानमंत्री ने कहा कि संकट के इस समय में मेरा देश के व्यापारी जगत, उच्च आय वर्ग से भी आग्रह है कि अगर संभव है तो आप जिन-जिन लोगों से सेवाएं लेते हैं, उनके आर्थिक हितों का ध्यान रखें. उनका वेतन न काटें. उन्होंने कहा कि ये ध्यान रखें कि उन्हें भी अपना परिवार चलाना है. पीएम ने कहा कि जरूरी सामान संग्रह करने की होड़ न लगाएं. डरकर खरीदारी न करें. भरोसा है कर्तव्यों का निर्वहन करते रहेंगे. पीएम ने कहा कि इस घड़ी में लोगों को कुछ दिक्कतें हो सकती है, उन्होंने कहा, "मुझे भरोसा है कि आने वाले समय में भी आप अपने कर्तव्यों का, अपने दायित्वों का इसी तरह निर्वहन करते रहेंगे. हां, मैं मानता हूं कि ऐसे समय में कुछ कठिनाइयां भी आती हैं, आशंकाओं और अफवाहों का वातावरण भी पैदा होता है.

No comments