कोरोना वायरस से देश सशंकित......... देवेश प्रताप सिंह राठौर ( वरिष्ठ पत्रकार) - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Monday, March 16, 2020

कोरोना वायरस से देश सशंकित......... देवेश प्रताप सिंह राठौर ( वरिष्ठ पत्रकार)

............... आज पूरा विश्व कोरोना वायरस से भयभीत है भारत में भी कोरोना वायरस से लोग बहुत परेशान हैं बहुत से लोगों ने अपने स्थानोंको जान आना बंद कर दिया है बहुत से लोगों ने आपने काम के तरीकों में बदलाव किया है स्कूल-कॉलेज बंद हो गए हैं सार्वजनिक स्थानों पर जहां भीड़ हुआ करती थी वहां खाली पड़ा हुआ है। ट्रेनों में भीड़ नहीं है बसें खाली चल रही है लेकिन इन सबके बीच में एक नाम है मजबूरी का उन गरीबों से पूछो जो रोज कमाते हैं रोज खाते हैं वह कोरोना वायरस को देखेंगे तो उनका पेट कैसे भरेगा और जीविका कैसे चलेगी । मजदूर मजदूरी कर रहा है मजदूर मार्केट में जाइए मजदूर एकत्र है मजबूर है वह भी इंसान है कोरोना वायरस को देखें कि अपने पेट के भूख रोना को देखें आज पूरा देश कोरोनावायरस के विषय में बहुत ही चिंतित हैं हर व्यक्ति शंका और भयभीत में जी रहा है बताया जाता है किसी को खांसी जुखाम आए तो उसे इतनी दूरियां बनाकर रखी जाए जबकि खांसी जुखाम अन्य चीजें यह नॉर्मल जीवन में हुआ करता है परंतु इसके  बारे में लोगों को बताने की जरूरत है कोरोना वायरस किस तरह फैलता है किस तरह के रोगों में लक्षण पाए जाते हैं । अगर कोई कोरोना के संबंध में लक्षण पाए जाते हैं तभी उन पर ध्यान दिया जाए नहीं कोरोनावायरस हर व्यक्ति को खांसी जुकाम किसी को भी हो जाए तो वह कोरोनावायरस का मरीज नहीं हो जाता है। मीडिया के लोगों को यह बताने की जरूरत है कि मौसम चेंज हो रहा है हर व्यक्ति जुखाम सर्दी खांसी नजला से ग्रस्त हो रहा है और उसको कोरोनावायरस से और चिंतित होना पड़ रहा है इस हालात में सरकार को तथा अन्य मीडिया को समझाने और बताने की जरूरत है कोरोना वायरस सावधानी से रोका जा सकता है लेकिन अगर किसी को खांसी जुकाम हो गया है तो इसका मतलब यह नहीं कि वह कोरोना वायरस से चिंतित हो जाए।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages