Latest News

भारी बारिश, ओलावृष्टि से फसलें तबाह

दैवीय आपदा की मार से किसान बेबस

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। तीन दिनों से लगातार बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से रबी की फसलें बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। किसानों के खिलखिलाते चेहरे मुरझा गए हैं। इस बार अच्छी फसल होने से किसान काफी खुश था। दैवीय आपदा की मार से किसान पूरी तरह टूट गया। डीएम ने नष्ट हुई फसलों के आंकलन को टीम को निर्देश दिए हैं।
बीते 72 घंटे से बादल तो छाए रहे, लेकिन बेमौसम अचानक दो-तीन बार हुई भारी बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को खासा नुकसान पहुंचा है। ऐसी स्थिति में किसानों की हालत बेहद दयनीय है। दैवीय आपदा की मार से अभी तक किसान जूझता चला आ रहा है। इस बार फसल की अच्छी पैदावार के चलते आशा में था कि इस बार कर्ज आदि की अदायगी कर पाएगा, किन्तु बारिश, ओला ने अरमानों पर पानी फेर दिया। अलग-अलग क्षेत्रों में ओलों की मार से जहां सरसो, चना, अरहर, गेंहू, मटर को क्षति हुई, वहीं बचीखुची फसल भी अभी लगातार बादल छाए रहने से खतरे की कगार पर खड़ी है। किसानों के चेहरे बरबाद फसल को देखकर मुरझा गए हैं। 

विकास खण्ड पहाडी के कुचारम, देवल, चैरा, कलवारा, नहरा, रामपुर, भानपुर, बसंतपुर, सिकरी, पटिया, कहेटा, कांटी, उसरी पुरवा, कादरगंज, मानिकपुर ब्लाक के ऐचवारा, सरैया, ऊंचाडीह, मारकुण्डी, टिकरिया, इटवा डुडैला, बहिलपुरवा, कर्का पडरिया, रुखमा खुर्द, रुखमा बुजुर्ग, कैलहा, ददरी, राजापुर तहसील के चांदीधुमाई, सरधुवा, अर्जुनपुर, खटवारा, वीरधुमाई सुर्की, विकास खण्ड कर्वी के सिद्धपुर, बनाडी, गढीवा, शिवरामपुर, कल्ला, पथरौडी, रैपुरवा, तरांव, बगलई, वीरा, हिनौता, इटखरी, खुटहा, भंभई, भरतकूप के मऊ ब, करारी, गोण्डा, सुदिनपुर, बंदरी, रामनगर विकास खण्ड के इटवा, लौढ़िया बटखरा, रामा कोल, मऊ विकास खण्ड के नीबी, मंडौर, ताडी, पूरब पताई, बियावल, बरगढ़ आदि क्षेत्रों के दर्जनों गांव-मजरों में अचानक ओलावृष्टि और बारिश से सैकडों बीघे की फसल बरबाद हो गई। प्रकृति की मार से किसान खासा आहत हुआ है। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने कृषि विभाग, बीमा कंपनियों समेत राजस्व टीमों को फसलों की क्षतिपूर्ति को आंकलन कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। बताया कि बरबाद हुई फसलों का मुआवजा दिलाया जाएगा।


No comments