Latest News

ब्राम्हण समाज के खिलाफ मैसेज वायरल करने पर संस्थान ने जताया विरोध

मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेज मुकदमा दर्ज कराये जाने की लगाई गुहार
  
फतेहपुर, शमशाद खान । कल्यानपुर थाना क्षेत्र के अन्तर्गत एक इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य द्वारा ब्राम्हण समाज के खिलाफ एक वाट्सएप गुप में मैसेज वायरल करने के बाद ब्राम्हण चेतना सेवा संस्थान में आक्रोश फूट पड़ा। इस मैसेज का विरोध जताते हुए संस्थान के पदाधिकारी कलेक्ट्रेट पहुंचे और जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर घृणा फैलाने वाले प्रधानाचार्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई किये जाने की गुहार लगाई। 
डीएम को ज्ञापन देने के लिए खड़े ब्राम्हण समाज के लोग।
सोमवार को ब्राम्हण चेतना सेवा संस्थान के अध्यक्ष कृष्ण नारायण अग्निहोत्री एडवोकेट पदाधिकारियों संग कलेक्ट्रेट पहुंचे और मुख्यमंत्री को सम्बोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सांपकर बताया कि कल्यानपुर थाना क्षेत्र के रेवाड़ी गांव स्थित हरवंश सिंह इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य प्रेम नारायण दोहरे द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप में ब्राम्हण जाति के खिलाफ अशोभनीय मैसेज वायरल किया गया। उसने मैसेज प्रकाशित किया कि ब्राम्हण जाति समस्त झगड़े की जड़ है। उसका चाल चरित्र चेहरा जानिये उसी ने समाज में जाति बांटी, छुआछूत का भाव फैलाया, अपने रोजगार के लिए मंदिर बनवाये, खुद को श्रेष्ठ बनाने के लिए मनु स्मृति लिखा, झूठी पूजा पाठ करता है, मूर्ख बनाने के लिए कर्मकाण्ड करता है, सुअर, गाय के कत्लखाने चलवाये, चमत्कार के नाम पर ढोंग फैलाया, सबसे ज्यादा काला धन जमा किया, मूर्तियों को तोड़ने वाला ब्राम्हण, भ्रूण हत्या करने वाला ब्राम्हण, महात्मा गांधी की हत्या करने वाला ब्राम्हण, यहां तक कि मंदिरों में सबसे ज्यादा काला धन एकत्र करने वाला ब्राम्हण है। बताया कि यह मैसेज 28 फरवरी को प्रधानाचार्य गुप में वायरल किया गया। जो सभी मोबाइलों में उपलब्ध है। जिससे ब्राम्हणों के प्रति उनका समाज में तिरस्कार अपमान व घृणा की भावना जागृत हुयी है। मांग किया कि प्रधानाचार्य के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता व सूचना एवं प्रौद्योगिकी अधिनियम-2000 के अन्तर्गत रिपोर्ट दर्ज करके उसके विरूद्ध तत्काल विभागीय कार्रवाई सुनिश्चित की जाये। इस मौके पर राजेन्द्र शुक्ला, राजेन्द्र त्रिवेदी, एसपी शुक्ला, आशीष गौड़, अभिलाष द्विवेदी, शिवाकांत त्रिपाठी, मणि प्रकाश दुबे, सत्येन्द्र मिश्रा सहित तमाम ब्राम्हण समाज के लोग मौजूद रहे। 

No comments