शांति सदभाव आज की जरूरत.................. देवेश प्रताप सिंह राठौर (वरिष्ठ पत्रकार) - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Sunday, March 8, 2020

शांति सदभाव आज की जरूरत.................. देवेश प्रताप सिंह राठौर (वरिष्ठ पत्रकार)


आज शांति और सदभाव किसी भी देश की बुनियादी आवश्यकता है। शांति सद्भाव जब भी रहता है जब सभी लोग भाईचारे से एक दूसरे के साथ मिलकर हर धर्म जात के लोग आपस में देश का नागरिक समझे देश की एकता और महानता अखंडता के लिए एकजुट होकर कार्य करें ।आज हमारे देश में जिस तरह नागरिकता संशोधन बिल पर बवाल मचा हुआ है उसको देखते हुए आज हमें शांति सद्भाव बनाए रखने की बहुत बड़ी आवश्यकता है ।देश के नागरिक खुद को तभी सुरक्षित महसूस कर सकते हैं तथा केवल तभी समृद्ध हो सकते हैं जब माहौल को शांतिपूर्ण बनाए रखा जाए। हालांकि भारत में सभी तरह के लोगों के लिए काफी हद तक शांतिपूर्ण माहौल है लेकिन फ़िर भी विभिन्न कारकों के कारण देश की शांति और सदभाव कई बार बाधित हो जाता है। भारत में विविधता में एकता देखी जाती है। विभिन्न धर्मों, जातियों और पंथों के लोग देश में एक साथ रहते हैं। भारत का संविधान अपने नागरिकों को समानता की स्वतंत्रता देता है और देश में शांति और सरकार द्वारा सदभाव सुनिश्चित करने के लिए शांति और सद्भाव किसी भी समाज के निर्माण के आधार हैं। अगर देश में शांति और सदभाव होगा तो हर जगह विकास हो सकता है। देश की सरकार देश में शांति और सदभाव सुनिश्चित करने का पुरज़ोर प्रयास करती है लेकिन निहित स्वार्थों के कारण यह अक्सर बाधित होता है। यहां उन सभी कारणों पर एक नज़र डाली गई है और उदाहरण दिया गया है जब देश में शांति भंग हुई थी।
शांति और सदभाव पर प्रभाव डालने वाले कारक:-
आतंकवादी हमलें देश में शांति और सदभाव के विघटन के प्रमुख कारणों में से एक रहे है।
देश में शांति और सदभाव अक्सर धर्म के नाम पर बाधित होता है। कुछ धार्मिक समूह दूसरे धर्मों को बदनाम करने की कोशिश करते है जिससे समाज में असंतोष पैदा हो जाता है।
राजनीतिक दल अक्सर अपने स्वयं के स्वार्थ को पूरा करने के लिए अन्य दलों के खिलाफ लोगों को भड़काते है जिससे राज्य में शांति बाधित होती है।
आरक्षण प्रणाली ने सामान्य श्रेणी के लोगों के बीच बहुत अधिक अशांति पैदा की है। कुछ समुदायों ने अपने लोगों के लिए भी आरक्षण की मांग करते हुए समय समय पर विरोध प्रदर्शन किया है।इसी तरह मुद्रास्फीति, बेरोजगारी और अंतर-राज्य के मुद्दों ने भी समय-समय पर समाज में अशांति पैदा की है।शांति और सदभाव के भंग होने के उदाहरणकई उदाहरण हैं जब देश की शांति और सदभाव बिगड़ गया था। 
2016 जाट आरक्षण आंदोलनदेश में शांति और सदभाव बनाए रखना मुश्किल है, जब तक हम में से हर एक अपनी आवश्यकता के बारे में संवेदनशील नहीं हो जाता है और इसके लिए योगदान नहीं देता। अकेले सरकार समाज में भाईचारे और मित्रता की भावना को सुनिश्चित नहीं कर सकते
किसी भी समाज को सुचारु रूप से कार्य करने के लिए शांति और सदभाव बहुत महत्वपूर्ण है। अपने नागरिकों के लिए एक सुरक्षित वातावरण देने के लिए भारत सरकार देश में शांति बनाए रखने के कदम उठाती है। हालांकि अक्सर शांति और सदभाव विभिन्न सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक कारकों के कारण बाधित होती है। यहां इन कारकों पर एक नजर डाली गई है और उदाहरण दिए गये हैं जब देश में शांति और सदभाव बाधित हुए है।
शांति और सद्भाव को प्रभावित करने वाले कारक
राजनैतिक मुद्देअपने स्वार्थ को पूरा करने के प्रयास में राजनीतिक दलों ने आम तौर पर लोगों को आपस में भड़काते है जिससे अक्सर देश में अशांति और गड़बड़ी का माहौल बनता है।आतंकवाद
आतंकवादी हमलों ने हमेशा ही देश में शांति और सदभाव को बाधित किया है। इस तरह के हमले से लोगों के बीच काफी भय पैदा हो जाता है।
कुछ धार्मिक समूह अन्य धर्म के लोगों को प्रभावित करने की कोशिश करते हैं और उन्हें अपने धर्म का पालन करने या अन्य धर्मों की निंदा करने के लिए मजबूर करते हैं। इससे कई बार सांप्रदायिक हिंसा भी हुई है। इनके अलावा अंतर-राज्य के मुद्दों, आरक्षण प्रणाली, मूल्य वृद्धि, गरीबी और बेरोजगारी ने भी देश में शांति और सदभाव को बाधित किया है।शांति और सदभाव के भंग होने के उदाहरण1967 रांची हटिया दंगेये सांप्रदायिक दंगे अगस्त 1967 में रांची और उसके आसपास हुए थे। वे लगभग एक सप्ताह तक जारी रहे। इस दौरान 184 लोग मारे गए थे।1969 गुजरात दंगे
भारत के विभाजन के बाद सबसे घातक हिंदू-मुस्लिम दंगे गुजरात के दंगे थे। ये सितंबर-अक्टूबर 1969 के दौरान हुए।वरली दंगेमुंबई में शिवसेना और दलित पैंथर के सदस्यों के बीच आरक्षण के मुद्दे पर ये दंगे हुए थे। 1974 में दलित पैंथर नेता भागवत जाधव की हत्या हुई थी।
मोरादाबाद दंगेअगस्त 1980 के दौरान हुए ये दंगे आंशिक रूप से हिंदू-मुस्लिम और आंशिक रूप से मुस्लिम-पुलिस के बीच का संघर्ष था। दंगों की शुरुआत तब हुई जब मुसलमानों ने पुलिस पर पत्थर फेंके क्योंकि पुलिस ने स्थानीय इदगाह से सुअर निकालने से इंकार कर दिया था। नवंबर 1980 तक हिंसक यह घटनाएं जारी रही।1993 बॉम्बे बम ब्लास्ट12 मार्च 1993 को बॉम्बे में 12 बम विस्फोट की एक श्रृंखला हुई थी। भारत में सबसे विनाशकारी बम विस्फोटों में से एक बॉम्बे बम ब्लास्ट को 1992 की बाबरी मस्जिद विध्वंस की प्रतिक्रिया में अंजाम दिया गया भारत के हर नागरिक के लिए देश में शांति और सदभाव के महत्व को समझना आवश्यक है। हम सभी को शांति बनाए रखने के लिए काम करना चाहिए।भारत अपनी लोकतांत्रिक व्यवस्था और धर्मनिरपेक्षता के लिए जाना जाता है जो देश में शांति और सद्भाव सुनिश्चित करने के लिए अपने सभी नागरिकों को राजनीतिक और धार्मिक समानता देती है। हालांकि कई ऐसे कारक हैं जो देश में शांति को भंग करते हैं। यहां हमने बताया है कि कैसे संविधान विभिन्न पृष्ठभूमि के लोगों के एक साथ बांधे रखता है और देश की शांति और सदभाव को बाधित करने वाले कौन से कारण हैं।धर्मनिरपेक्षता शांति और सदभाव को बढ़ावा देती है
भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है। भारत का संविधान अपने प्रत्येक नागरिक को अपने धर्म का पालन करने का अधिकार देता है। देश में कोई आधिकारिक धर्म नहीं है। सभी धर्मों का समान रूप से आदर किया जाता है। सभी धर्मों का सम्मान देश में शांति और सदभाव को बढ़ावा देने का एक तरीका है। विभिन्न धर्मों के लोग एक-दूसरे के साथ को पसंद करते हैं और सभी उत्सवों को समान उत्साह के साथ मनाते हैं। स्कूलों में, काम के स्थानों और विभिन्न अन्य स्थानों पर लोग एक साथ मिलकर काम करते हैं।निम्नलिखित कारक शांति और सदभाव पर प्रभाव डालते हैंभारत के नागरिक बड़े पैमाने पर एक दूसरे के साथ सदभाव में रहते हैं। हालांकि ऐसा कई बार देखा गया है जब विभिन्न कारणों से शांति बाधित होती है। इनमें से कुछ कारण नीचे वर्णित हैं:आतंकवादआतंकवादी हमलों ने समाज में आतंक पैदा कर दिया है। इन हमलों के माध्यम से आतंक फैल रहा है जिससे देश में शांति और सामंजस्य को प्रभावित करने वाले दिन आ गए हैं। भारत में आतंकवादी हमलों के कई उदाहरण हैं।
धर्महालांकि भारत में कोई आधिकारिक धर्म नहीं है और इसके नागरिकों को अपनी इच्छा के अनुसार अपने धर्म को चुनने या बदलने की आजादी है लेकिन कुछ ऐसे धार्मिक समूह हैं जो उनके धर्म का प्रचार करते हैं और उनके स्तर को बढ़ावा देते हैं ताकि वे दूसरे लोगों के धर्म को अपमानित करें। इससे अक्सर सांप्रदायिक हिंसा होने का डर रहता है।
राजनीतिक हथकंडे
अक्सर राजनीतिक दलों में सिद्धांतों की कमी देखी जाती है। एक पार्टी सत्ता में आने के प्रयास में दूसरे को बदनाम करने की कोशिश करती है। राज्य में अनावश्यक अशांति पैदा करने वाले लोग एक विशेष धर्म से जुड़े हुए हैं।आरक्षण प्रणालीनिम्न वर्गों के लोगों के लिए सामाजिक और आर्थिक समानता सुनिश्चित करने के प्रयास में, संविधान ने आरक्षण प्रणाली शुरू की इस प्रणाली का काफी हद तक विरोध किया गया और अन्य जातियों से संबंधित बहुत से लोग भी अपने समुदाय के लिए आरक्षण मांगने के लिए आगे आए। इसके कारण कई बार अशांति और बाधा उत्पन्न हुई है।राज्यों के आपसी मुद्दे
शिवसेना जैसे राजनीतिक दलों ने महाराष्ट्र में अन्य राज्यों के लोगों को महाराष्ट्र में काम करने की अनुमति देने के प्रति असहिष्णुता दिखाई है। राज्यों के बीच इस तरह के मुद्दे भी शांति के विघटन को जन्म देते हैं।
महंगाईवस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी, विशेष रूप से जो दैनिक उपयोग के लिए आवश्यक हैं, समाज में अशांति का एक और कारण है। अक्सर लोग कीमतों में अचानक बढ़ोतरी के विरोध में सड़कों पर उतर आते हैं और समाज का सामान्य कामकाज अक्सर इस वजह से बाधित होता है
जहां तक ​​भारत सरकार की बात है वह देश में शांति और सदभाव को सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कोशिश करती है लेकिन हमें अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है। यह तब होगा जब प्रत्येक नागरिक समाज के खतरों को पहचान देश में पूर्ण शांति और सामंजस्य के लिए अपना योगदान देगा।
विभिन्न धर्मों और जातियों के लोग भारत के विभिन्न हिस्सों में रहते हैं। हालांकि ये लोग बड़े पैमाने पर एक-दूसरे के साथ सदभाव में रहते हैं लेकिन कई कारणों के चलते अक्सर देश की शांति और सामंजस्य बाधित हो जाती है। यहां नीचे बताया गया है कि विविधता के बीच सदभाव कैसे बनाए रखा जाता है और कौन से कारण शांति को प्रभावित करते हैं
शांति और सदभाव को प्रभावित करने वाले कारक
जहां ​​भारत सरकार देश में शांति और सदभाव को बनाए रखने के हर संभव कदम उठा रही है वहीं कई कारक हैं जो इसे प्रभावित करते हैं। यहां उन पर एक विस्तृत नज़र डाली गई है:
धर्मभारत का संविधान किसी भी धर्म का आधिकारिक तौर पर पालन नहीं करता है और अपने नागरिकों को किसी भी समय अपने धर्म को चुनने या बदलने की इजाजत देता है। हालांकि यहाँ कुछ ऐसे धार्मिक समूह हैं जो अपने धर्म को उस सीमा तक फैलातें हैं जो देश की शांति और सदभाव में अस्थिरता लाता है।जाति व्यवस्थाभारत में व्यक्ति की जाति और धर्म के आधार पर भेदभाव करना आम बात है हालांकि संविधान सभी को समानता का अधिकार देता है। यह भेदभाव कभी-कभी सामाजिक संतुलन को बिगाड़ता है जिससे शांति बाधित होती है।आरक्षण प्रणालीअनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लोगों के जीवन स्तर को बढ़ाने के उद्देश्य से देश में आरक्षण प्रणाली शुरू की गई थी लेकिन अन्य जातियों जैसे कि गुज्जर और जाट बिरादरी के लोगों ने भी आरक्षण की मांग शुरू कर दी है जिससे शांति व्यवस्था बिगड़ गई है।
राज्यों के आपसी मुद्दे
कई क्षेत्रीय पार्टियां अन्य राज्यों के लोगों को अपने इलाके में बसने के लिए प्रोत्साहित नहीं करते हैं। यह अक्सर शिव सेना के सदस्यों और महाराष्ट्र के अन्य राज्यों के लोगों के बीच बहुत तनाव पैदा करता है।बेरोजगारी और गरीबी
शिक्षा का अभाव और अच्छे रोजगार के अवसरों की कमी से बेरोजगारी हो जाती है, जो अंततः गरीबी में वृद्धि करती है और देश में अपराध की दर को बढ़ाती है।राजनीतिक खतरा
कई बार विपक्ष जनता को अपने स्वयं के स्वार्थी उद्देश्यों को पूरा करने के लिए सत्ता में मौजूद पार्टी के खिलाफ उकसाता है जो अंततः अशांति और गड़बड़ी के मुख्य कारक है।
महंगाईमूल्य वृद्धि एक और समस्या है जो एक समाज के सुचारु संचालन को बाधित कर सकती है। कई उदाहरण सामने आए हैं जब लोग अनुचित कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ विद्रोह करने के लिए आगे आए हैं जिससे शांति बाधित हो चुकी है।आतंकवाद
भारत ने कई बार आतंकवादी हमलों का सामना किया है जो नागरिकों के बीच डर पैदा कर चुके हैं। इस तरह के हमलों के कारण बनी परेशानी समाज के सामान्य कामकाज को बाधित करती है।शांति और सदभाव के विघटन के उदाहरणकई उदाहरण हैं जब देश की शांति और सदभाव को विभिन्न समूहों और समुदायों के साथ समझौता किया गया था। कुछ ऐसे ही उदाहरणों को नीचे साझा किया गया भारत के गुजरात राज्य ने सितंबर-अक्टूबर 1969 के बीच हिंदू और मुस्लिमों के बीच सांप्रदायिक हिंसा देखी। यह राज्य में पहली बड़ा दंगा था जिसमें बड़े पैमाने पर नरसंहार और लूट शामिल थ हिंसक भीड़ ने देश में सिक्खों पर हमला किया। यह सिख अंगरक्षकों द्वारा पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के जवाब के रूप में किया गया था।इस्लामी आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के कुछ सदस्यों ने मुंबई में प्रवेश किया और चार दिनों के तक गोलीबारी और बम धमाकों की बौछार की।
जाट आरक्षण आंदोलन: फरवरी 2016 में हरियाणा में जाट लोगों द्वारा कई विरोध प्रदर्शन किए गए। उन्होंने अन्य पिछड़ा वर्ग की श्रेणी में अपनी जाति को शामिल करने की मांग की। इसने राज्य के सामान्य कार्य को बाधित किया और आज भी आंदोलन पूर्ण रूप से खत्म नहीं हुआ है।
हालांकि भारत का संविधान अपने सभी नागरिकों को समानता का अधिकार देता है, ताकि उनके बीच पूर्ण सामंजस्य सुनिश्चित किया जा सके लेकिन कई सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक कारणों के कारण शांति भंग हो गई है। अकेले सरकार देश में शांति और सदभाव बनाए रखने के लिए ज़िम्मेदार नहीं हो सकती। हम में से हर एक को यह चाहिए कि हम अपनी नागरिकता के साथ भाईचारे की भावनाओं का पोषण करने की जिम्मेदारी भी लें।कई लोगो की प्रेरणा की स्रोत, अर्चना सिंह एक कुशल उद्यमी है। अर्चना सिंह 'व्हाइट प्लैनेट टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड' आई. टी. कंपनी की डायरेक्टर है। एक सफल उद्ममी होने के साथ-साथ एक कुशल लेखक भी है, व इस क्षेत्र में कई वर्षो का अनुभव है। वे 'हिन्दी की दुनिया' और अन्य कई वेबसाइटों पर नियमित लिखती हैं। अपने प्रत्येक क्षण को सृजनात्मकता में लगाती है। इन्हें खाली बैठना पसंद नहीं। इनका कठोर परिश्रम एवं कार्य के प्रति लगन ही इनकी सफलता की कुंजी है। आज हम जिस देश में रह रहे हैं वह लोकतंत्र देश है यहां पर शांत सद्भाव बनाए रखने के लिए हम सब धर्म के सब लोग एक साथ रहकर हर त्यौहार को खुशी-खुशी रूप से मनाते हैं यही हमारा धर्म है यही हमारा संस्कृत है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages