Latest News

लॉक डाउन से पूरी तरह ठहरी रही लोगों की जिंदगी

सड़के रही सुनसान, चैराहों पर पुलिस ने की बेरिकेटिंग 
अधिकारी भ्रमण कर कफ्र्यू का लेते रहे जायजा, लोगो से घरो में रहने की दी हिदायत
  
फतेहपुर, शमशाद खान । कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर देश मे किये गए लॉक डाउन के पहले दिन जनपद में अधिकतर सड़के सुनसान रही। रात्रि बारह बजे से लॉक डाउन होने के बाद हालांकि सुबह लगभग दूध सब्जियों समेत खाने पीने की दुखाने खुली जिन्हें खरीदने के लिये लोग बड़ी संख्या में बाहर आये लगभग नौ बजते बजते पुलिस द्वारा भीड़भाड़ की बात कहकर दुकानों को बन्द करवा दिया गया। कफ्र्यू के दौरान पुलिस द्वारा शहर के ज्वालागंज बस स्टॉप, भिटौरा बाईपास, नउवाबाग बाईपास, राधानगर स्थित बांदा सागर मांर्ग पर बेरिकेटिंग कर रास्ता बंद कर दिया गया। वही शहर के अंदर पटेल नगर से स्टेशन रोड, पत्थर कटा चैराहा, बाकरगंज पर पुलिस द्वारा बैरीकेटिंग की गई है। हालांकि
लाक डाउन के प्रथम दिन ज्वालागंज जीटी रोड मार्ग पर पसरा सन्नाटा।
रस्ता बन्द के दौरान चिकित्सा कर्मियों एम्बुलेंस, पुलिस वाहन, सफाई कार्यो में लगे नगर पालिका के वाहनों के साथ साथ मरीजों को लेकर आने जाने वाले वाहनों एवं मीडिया कर्मियों के वाहनों को निकलने दिया गया। कफ्र्यू के दौरान प्रशासन द्वारा लोगो से घरो में अपील करने के साथ ही सभी तरह की आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता में कोई कमी न आने की बात कही जा रही है। जो बन्द के दौरान देखने के मिली। कफ्र्यू की स्थिति में लोगो की परेशानियों को देखते हुए पेट्रोल पंप दवाइयों की दुकान खुली रही। वहीं रसोई गैस के आपूर्ति के लिये डिलेवरी मैन द्वारा लोगो के घरो को बराबर लेकर जाते हुए दिखाई दिये। प्रशासन द्वारा लगतार लोगो से घरों में रहने एवं जरूरत की सभी चीजों की कोई कमी न होने का आश्वासन दिया जा रहा है। जमाखोरी न करने की अपील भी की जा रही है। हालांकि तस्वीर बिल्कुल उलट दिखाई दे रही है। कफ्र्यू के दौरान वाहनों के बन्द रहने के कारण बाहर से माल न आने के कारण दुकानदारो द्वारा चांदी काटी जा रही है। शहर के साथ-साथ खागा बिंदकी जैसे कस्बों एवं दूर दराज के ग्रामीण क्षेत्र में कालाबाजारी का बुरा हाल हो गया है। दुकानदारों द्वारा तेल, घी, आटा, चीनी जैसी दैनिक उपयोग की वस्तुओं को मनमाने ऊँचे दामो पर बेचा जा रहा हैं। जिसे जनता खरीदने पर मजबूर दिखाई दी। लॉक डाउन के दौरान शहर की अधिकांश सड़के पुलिस की बेरिकेटिंग से बन्द रही। जिससे सड़को पर पूरी तह सन्नाटा पसारा रहा। जरूरत से निकलने वाले इक्का दुक्का लोगो को पुलिस द्वारा पूछताछ कर ही निकलने दिया जाता रहा। सड़कों के दोनों ओर दुकानों के बन्द होने से सन्नाटा पसरा हुआ दिखाई दिया। कफ्र्यू के दौरान जिलाधिकारी संजीव सिंह, पुलिस अधीक्षक प्रशान्त वर्मा, उप जिलाधिकारी प्रमोद कुमार झा, क्षेत्राधिकारी कपिल देव मिश्रा समेत प्रशासनिक एवं पुलिस अफसरों द्वारा कफ््र्यू एव बेरिकेटिंग का जायजा लेने के साथ ही बाहर निकलने वाले लोगो से पूछताछ कर घरो में रहने की हिदायत दी जाती रही।

No comments