Latest News

कोरोना से बचाने के लिए बुजुर्गों का रखें खास ख्याल

रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने से खतरा अधिक

हमीरपुर, महेश अवस्थी । कोरोना वायरस के डर से और प्रधानमंत्री के आवाहन पर जनता कफ्र्यू को लेकर रविवार को पूरे दिन मुख्यालय में सन्नाटा रहा ग्रामीण क्षेत्रो में भी पूरी तरह से कफ्र्यू जैसा महौल था। मुख्यालय से एक भी बस नही निकली पेट्रोल पम्प बंद रहे। सब्जी और अन्य कोई व्यापारिक प्रतिष्ठान भी नही खुले। पुलिस
डिपो में कैद बसे
चैकसी करती रही, आज दूसरे दिन भी हमीरपुर डिपो से एक भी बस नही निकली। मगर जन जीवन सामान्य सा दिखा लोगो में कोरोना के प्रति भय था। डाक्टरो का कहना है कि परिवार के अन्य सदस्य साफ सफाई का पूरा ध्यान रखे। ऐसे समय में बुजुर्गों के खानपान पर भी पूरी तरह से ध्यान दिया जाए। ताकि उनकी प्रतिरोधक क्षमता बरकरार रहे। उनको ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ सेवन करने को दिए जाएं, जैसे गुनगुना पानी, जूस, नीबू रस गुनगुने पानी के साथ, तुलसी, अदरक वाली चाय आदि। उनके भोजन में दूध, दही, पनीर, हरी सब्जियां और दाल की भरपूर मात्रा होनी चाहिए। मौसमी और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले फल जरूर लें। पुराना बेतवा घाट
मुख्यालय में  पसरा सन्नाटा
निवासी 67 वर्षीय इन्द्रजीत का कहना है कि कोरोना वायरस के फैलाव को देखते हुए वह बाहर निकलने से पूरी तरह परहेज कर रहे हैं। कोरोना को हराने में हम पूरी तरह सफल रहें। वही जिला विज्ञान क्लब के जिला समन्वयक डा. जीके द्विवेदी ने बताया कि कोविड-19, कोरोना एक वाइरस है, यह न्यूक्लियर प्रोटीन है। जब किसी सतह पर जब पड़ा होता है तो निर्जीव होता है। किन्तु यह हमारे शरीर के अंदर पहुंचने के बाद सजीव बन जाता है अर्थात सजीव की तरह कार्य करने लगता है और हमारी कोशिकाओं की मशीनरी का इस्तेमाल करके मल्टीप्लिकेशन शुरू कर देता है, हमारा शरीर करोना से जंग लड़ता है जब हमारे शरीर की इम्युनिटी कम होती है। एैसी स्थिति मंे कमजोर शरीर में न्यूमोनिया का अटैक हो जाता है। जिसके कारण सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। 

No comments