मां के आते ही लिपटकर खूब रोयी असम की मॉडल - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, March 18, 2020

मां के आते ही लिपटकर खूब रोयी असम की मॉडल

कमिश्नर बंगले के पास खाली पड़े बंगले में दुष्कर्म के प्रयास का शिकार असम से मॉडल थाने में मां के आते ही लिपटकर खूब रोयी। उसने रोते हुए उस रात हुई घटना की दास्तां बयां की तो मां ने उसे सहलाते हुए सब ठीक हो जाने की बात कहकर ढांढस बंधाया। मॉडल ने कहा कि पुलिस सहारा नहीं देती तो शायद वह टूट जाती।
महिला थाना प्रभारी के कमरे में ठहरी है मॉडल

पीडि़त अभी महिला थाने की प्रभारी के ही कमरे में रुकी है। अधिकारियों के निर्देश भी हैं कि उसे ऐसा आभास न हो कि वह घर से अलग है। थाना प्रभारी वर्षा श्रीवास्तव को दीदी कहते हुए मॉडल ने एक महिला सिपाही की भी तारीफ की। मां से कहा, साथ बैठाकर खाना खिलाती हैं। मां ने कहा कि दो दिन यहां रहेंगे। फिर, गुवाहाटी लौट जाएंगी।



इरादे मालूम नहीं थे, वरना नहीं जाती

मॉडल ने बताया कि अमित के इरादे पता होते तो हरगिज उसके साथ नहीं जाती। 14 की रात होटल के बाहर मिलने आए थे तो गाड़ी में बैठाकर क्लब ले गए। वहां से होटल छोडऩे के बजाए घुमाने ले गए। जिद करके वह होटल लौटी। वाटर पार्क में ले जाने से पहले टकीला पिलाया। वहां से बंगले में ले आए। यहां आने पर गलत इरादों का अहसास हुआ।

पिलाया था नींबू पानी

बंगले के पास बस्ती के रहने वाले हिमांशु, राजू, कमला आदि ने बताया कि देर रात जब युवती बदहवास हालत में निकली तो वही मौके पर पहुंचे थे। उसके कपड़े फटे देखकर शॉल ओढ़ाई। कुछ देर बाद भाभी (बंगले के मालिक समीर की पत्नी) आईं और उन्होंने उसे नींबू पानी पिलाया। इसके बाद पुलिस आ गई और युवती को साथ ले गई।



पुलिस पकड़ से भागा अमित

मॉडल के मुताबिक, रविवार रात दुष्कर्म के प्रयास का मुख्य आरोपित अमित अग्र्रवाल पकड़ लिया गया था। पर, वह थाने लाते समय भाग निकला। उसने एसपी पश्चिम डॉ. अनिल कुमार को इसकी जानकारी दी है। एसपी ने सीओ कर्नलगंज अजीत कुमार रजक को पुलिसिया लापरवाही की जांच सौंपी है। आइजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि पुलिस की लापरवाही की जांच कराई जा रही है। रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई होगी।

सीसीटीवी की नहीं निकलवाई फुटेज

जिस बंगले में घटना हुई, उसके आसपास रास्तों पर कैमरे हैं। पुलिस ने इनकी फुटेज नहीं निकलवाई। इससे पता नहीं लगा कि घटना के वक्त कौन-कौन बंगले में आया था। पुलिस ने बंगला भी सील नहीं किया। इतनी सनसनीखेज घटना होते हुए भी इंस्पेक्टर विजय कुमार पांडेय ने डेढ़ घंटे तक अधिकारियों को ही इसकी सूचना नहीं दी। खबर पर रात करीब एक बजे एसपी पहुंचे और तब कार्रवाई में तेजी आई।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages