6 राजस्व कर्मी लखनऊ में तलब, सेना में भर्ती का मामला - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, March 21, 2020

6 राजस्व कर्मी लखनऊ में तलब, सेना में भर्ती का मामला

हमीरपुर, महेश अवस्थी । हमीरपुर के फर्जी निवास प्रमाणपत्र बनाकर सेना मे नौकरी के मामले में सघन जांच करने के बाद सीबीआई लखनऊ की तीन सदस्यीय वापस तो लौट गयी मगर, बाहरी जिलो के लोगो के निवास प्रमाणपत्र यहंा से कैसे जारी हुए यह गुत्थी अभी भी उनके सामने है। टीम नें 6 कर्मचारियों को अलग अलग दिन में तलब किया है। फर्जी प्रमाणपत्रो का सत्यापन कर सेना मुख्यालय भेजने वाले पुलिस कर्मीयों की जानकारी थाना प्रभारी से मांगी गयी है। टीम ने सभासद पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष से पूछताछ की तो उन्होने अपनी मुहर और हस्ताक्षर न होने की बात कहकर रिपोर्ट को फर्जी ठहराया। कलेक्ट्रट के नजूल लिपिक फौजिया इस्लाम, अवधेश अवस्थी राजस्व सहायक को रिपोर्ट तैयार कर सोमवार को लखनऊ बुलाया है। तत्कालीन शस्त्र लिपिक बृजकिशोर, सहायक राजस्व प्रकाश सौरभ, लिपिक अजीत और वेंडर नवीन कुमार गुप्ता को मंगलवार को
लखनऊ में तलब किया है। बताते चले कि वर्ष 2016 में कानपुर मे सेना भर्ती में हमीरपुर समेत पांच जिलो के युवाओ को मौका दिया गया था। मगर दूसरे जिलो के 34 युवको ने हमीरपुर के फर्जी निवास प्रमाणपत्र बनवाकर सेना में नौकरी हासिल कर ली थी। प्रमाणपत्रो के सत्यापन के दौरान कुरारा थाने में पुलिस को यह देखकर माथा ठनका कि पता हमीरपुर का है जबकि सारे शैक्षणिक प्रमाणत्र अलीगढ़ के है। पुलिस को दिये गये पते पर युवक नही मिले तब फर्जी वाडे की जांच सीबीआई को सौंपी गयी। चालीस नामजद और अज्ञान के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज करा दिया गया है। फर्जीवाडा करने वाले सिंडीकेट की सदर एसडीएम कार्यालय में मजबूत पकड थी। उसने प्रमाणपत्र बनाने वाले 34 युवाओ के नाम विभाग की अधिकारिक वेबसाइट में अपलोड किये। सेना को धोखा देने के लिए लखनऊ में भेजे गये पते पर फर्जी सत्यापन की रजिस्ट्री तक कर दी। एक तहसील कर्मचारी के अनुसार एक फर्जी निवास प्रमाणपत्र के लिए 30 से 40 हजार रूपये का आफर मिलता था। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages