Latest News

भूमि विकास बैंक के 2076 खाते एनपीए, 8 करोड़ फंसे

हमीरपुर, महेश अवस्थी । भूमि विकास बैंक हमीरपुर, राठ और मौदहा के 2076 खाते एनपीए होने से बैंक का आठ करोड रूपया फंस गया है। बैंक ने यह धनराशि किसानो को ऋण के रूप मंे दी थी। लम्बा समय गुजरने के बाद भी किसानो ने इसे वापस नही किया और बैंक से लेनदेन भी बंद कर दिया है। भूमि विकास बैंक ने 2629 खाता धारको को 16 करोड की धनराशि का ऋण दिया था। इनमें हमीरपुर के 657 किसानो पर 3.48 करोड, राठ के 1572 किसानो पर 9.49 करोड, मौदहा के 410 किसानो पर 2.82 करोड की बकायेदारी है। पिछले दिनो
बैंक ने जब वूसली अभियान चलाया तो पता चला कि 2076 किसानो के खाते एनपीए हो चुके है। जिनपर 7.52 करोड़ की बकायेदारी है। इसमें हमीरपुर के 1.68 मौदहा के 1.93 और राठ के 4.32 करोड रूपये शामिल है। शाखा प्रबन्धक डा. अवधेश गुप्ता का कहना है कि 11 बकायेदारो के 23.75 लाख की आरसी की गयी है। 134 के खिलाफ अमीन से 95क की कार्यवाही की गयी है। 15 की नीलामी करायी जा रही है। पिछले दिनों बैंक ने वसूली के लिए ओटीएस योजना भी शूरू की मगर उसके सार्थक परिणाम सामने नही आये। कोई भी खाता एनपीए कब होगा। यह खाते के प्रकार पर निर्भर करता है। प्रतिमाह जिस खाते की किस्त जमा होती है और उनमे तीन माह तक किस्त न जमा की जाये तो खाता एनपीए हो जाता है। वहीं केसीसी और अन्य योजनाओ का खाता फसल के बाद धनराशि जमा न करने पर 6 माह में नानपरफार्मिंग एसेट होता है। 

No comments