Latest News

सड़क दुर्घटनाओं में अधेड़ समेत दो की मौत

कस्बा बबेरू और गिरवां के दरगाही पुरवा में हुई दुर्घटना 
अज्ञात वाहन ने बाइक सवार को मारी टक्कर 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । अलग-अलग हुए सड़क हादसों में प्राइवेट बिजली कर्मचारी समेत दो लोगों की मौत हो गई। घरवालों को खबर मिली तो रो-रोकर बुरा हाल हो गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा के बाद पोस्टमार्टम कराया है। मृतकों में से एक की जून 2019 में शादी हुई थी। 
बबेरू कस्बे के गांधी नगर मुहलला निवासी कन्हैया (55) पुत्र मुकुंदलाल सोमवार की शाम को अपने घर से पैदल सब्जी लेने के लिए बबेरू मंडी जा रहा था, तभी रास्ते में लकड़ी भरे ट्रैक्टर ने उसे रौंद दिया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। खबर पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने एंबुलेंस के जरिए उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र
घटना की जानकारी देते मृतक के साले धर्मेश कुमार (बाएं)
बबेरू में भर्ती कराया था, वहां से उसे जिला अस्पताल लाया गया। जिला अस्पताल में रात भर उसका उपचार हुआ और मंगलवार को उसे राजकीय मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। राजकीय मेडिकल कालेज में भी उपचार कराए जाने के बाद हालत में सुधार नहीं हुआ। इस पर चिकित्सकों ने उसे कानपुर के लिए रेफर कर दिया। घरवाले कन्हैया को कानपुर लेकर जा रहे थे, तभी रास्ते में उसकी मौत हो गई। परिजन शव लेकर जिला अस्पताल आ गए। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा के बाद पोस्टमार्टम कराया है। पोस्टमार्टम हाउस में मृतक के साले धर्मेश कुमार निवसी खत्रीपहाड़ गिरवां ने बताया कि मृतक प्राइवेट तौर पर बिजली संयंत्र बनाने का काम करते थे। मृतक के एक पुत्री है। पत्नी सुनीता समेत परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। 
गिरवां थाना क्षेत्र के देवरार गांव निवासी महेश (25) पुत्र इंद्रपाल मंगलवार की शाम को किसी काम से बाइक लेकर घर से निकल गया था, दरगाही पुरवा के पास अज्ञात वाहन ने महेश की बाइक में जोरदार टक्कर मार दी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। खबर पाकर मौके परिजनों ने उसे तत्काल एंबुलेंस के जरिए जिला अस्पताल लाए, वहां पर चिकित्सकों ने महेश को मृत घोषित कर दिया। मौत की खबर मिलते ही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचनामा के बाद पोस्टमार्टम कराया हैं मृतक के मौसेरे भाई ध्रुवराज सिंह निवासी कतरावल ने बताया कि महेश मेहनत मजदूरी कर अपना भरण पोषण करता था। इसके साथ ही वह परदेश भी जाकर मजदूरी का काम करता था। 

No comments