Latest News

कालपी में शिवरात्रि के पर्व पर निकाला गया शिव बरात जुलूस

पुलिस प्रशासन की रही चुस्त व्यवस्था
कालपी (जालौन), अजय मिश्रा । इतिहासिक, पौराणिक एंव धार्मिक नगरी कालपी में शिवरात्रि के पावन पर्व पर बडे ही धूम धाम गाजे बाजे के साथ-साथ सुदंर मनोहर झांकियों के साथ शक्ति पीठ मां बनखण्डी देवी मंदिर से शिव बारात जलूस निकाला गया जिसमें प्रमुख रुप से बड़ा स्थान लक्ष्मी नारायण मंदिर के महन्त महामंडलेश्वर श्रीश्री 1008 रामकरन दास जी महाराज व मां वनखण्डी देवी शक्ति पीठ के श्रीश्री 108 मंहत जमुना दास जी व क्षेत्रीय विधायक नरेन्द्रपाल सिंह जादौन मौजूद रहे। जो टरननगंज बाजार, मुन्ना फुलपॉवर चैराह, कोतवाली तथा रेलवे स्टेशन, मैन बाजार से होते हुये पुनः मां बनखण्डी देवी मंदिर पहुंच कर समाप्त हुआ। जिसमें लगभग सभी राजनैतिक दल, समाजसेवी, तथा व्यापारियो ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लेकर जगह-जगह अपने अपने बैनल, पोस्टर लगाकर शिव बारात जलूस में चल रहे लोगो को डण्डा पानी, शर्बत तथा फल आदि खिलाकर उनका भव्य स्वागत किया। तथा स्थानीय प्रशासन के कुशल नेतृत्व में कोई भी परिंदा पग नही हिला सका।
शिव बारात शोभा यात्रा में आगे चलते विधायक नरेंद्र सिंह।
   शिवरात्रि के पावन पर्व पर देवों के देव महादेव के मंदिरों में प्रातः काल से ही भक्तों का तांता लगा रहा वही भक्तों द्वारा भांग, धतूरा, बेलपत्र, बेर, पुष्प, चढाकर तथा दूध से स्नान करवाके अपने अपने ढंग से शिव जी को प्रसन्न करने में भक्त शिव भक्ती मे लीन रहे। कालपी नगर में अनेकानेक रूपो में नवेश्वर की अत्याधिक मान्यता है। इन शिव स्वरूप नवेश्वरों में पातालेश्वर, ढोड़ेश्वर, फालेश्वर, लुढकेश्वर, बानेश्वर, तिगडेश्वर, गोपेश्वर, रामेश्वर, भोलेश्वर, महादेव प्रमुख है जो विभिन्न रूपों में लोगों को फलदायी है। कालपी नगर से तीन किलो मीटर दूर घोर जंगल में बना तिगडेश्वर धाम में प्रातः काल 4 बजे से ही दूर दूर से भक्त गण आकर पूजा अर्चना कर शिव जी से देश में अमन शान्ति रहे इसकी दुआ मांगते है। तिगरेश्वर शिव मंदिर के भक्तो ने बताया कि जो लोग संसार रूपी तिकडम से मुक्ति पाना चाहते है उन्हें इस स्थान पर अवश्य निवास करना चाहिये। जनश्रुति तो यहां यह भी है कि संसार के बंधनों से डरने वालो को यहां पर आवश्यकीय रूप से निवास करना चाहिये। उन्होंने यह भी बताया कि इतिहासविदों का कथन है कि द्रोणाचार्य के अमर पुन्न अश्वत्थामा इस शिवलिंग को शिवरान्नि के दिन अक्सर दूध से नहला कर पूर्जा अर्चना करते है तथा इसी वन में भ्रमण करते है। इसी प्रकार महर्षि वेदव्यास मंदिर में भक्तों ने भांग, फल, फूल का भोग लगाकर प्रसाद ग्रहण किया। सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टि से मंदिरों व शिव बरात जलूस में उप जिलाधिकारी कौशल कुमार, सीओ राहुल पाण्डेय, तहसीलदार शशिवेन्द्र द्विवेदी, कोतवाल मानिकचंद्र पटेल, क्राईम कोतवाल मनोज मिश्रा, एसएसआई आनन्द कुमार सिंह, एसआई सोवरन सिंह, एसआई दमोदर सिंह, एसआई सुनील कुमार सैनी, एसआई अशोक कुमार, एसआई राम विनोद, एसआई रनवीर सिंह, एसआई अजय कुमार सिंह सहित कई थानो की पुलिस बल सहित पीएसी बल के अलावा खूकफया तंत्र के साथ-साथ राजनैतिक, समाजसेवी व भक्तगणों बढ़-चढ़ कर लिया हिस्सा जिसमें हजारों लोग मौजूद रहें।

No comments