Latest News

जिला कारागार में श्रीमद् भागवत कथा का हुआ शुभारंभ

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । जिला कारागार में ग्यारह दिनों तक चलने वाली श्रीमद् भागवत कथा ज्ञानयज्ञ का विधिवत शुभारंभ गुरुवार को हो गया। सर्वप्रथम कारागार में स्थित समस्त धार्मिक स्थलों पर श्रीमद् भागवत महापुराण को ले जाकर कलश यात्रा का प्रारंभ पं. रामबाबू पटेरिया कोंच द्वारा कराया गया। इसके पश्चात भागवत कथा वाचक पं. रमाकांत व्यास झांसी द्वारा प्रारंभ की गयी। कथा वाचक ने कहा कि यह भगवान की विशिष्ट कृपा है कि श्रीकृष्ण भगवान की जन्म स्थली में कथा का आयोजन कारागार अधिकारियों द्वारा कराया जा
श्रीमद् भागवत कथा का शुभारंभ करवाते जेल अधीक्षक।
रहा है। कथा के प्रथम दिवस अनेकों प्रसंगों के बारे में प्रकाश डालते हुये कथा व्यास ने श्रीराम चरित मानस की चैपाई- ‘‘मिलहि न रघुपति बिनु अनुरागा, किये जोग जप तपहि बिरागा’’ का उदाहरण देते हुये कहा कि श्रीमद् भक्ति प्राप्त करना है तो सांसारिक लोगों से स्नेह हटाकर भगवान से प्रेम जोड़ना चाहिये। इस अवसर पर उरई जेल अधीक्षक सीताराम शर्मा ने बंदियों को श्रद्धालु की संज्ञा देते हुये कहा कि इन 11 दिनों आप सभी इस कारागार को साधना स्थल स्वरूप मानते हुये सत्संग का लाभ लें। सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते हुये जेल अधीक्षक जेल स्टाफ को दिशा निर्देश भी जारी किये। इस दौरान सुनीत कुमार चैहान कारापाल, पुष्पेंद्र विक्रम डिप्टी जेलर, श्रीमती हौशिला देवी महिला डिप्टी जेलर उपस्थित रहीं।

No comments