Latest News

शोषितों के दर्द को निराला ने किया उजागर: कुलपति

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्व विद्यालय चित्रकूट द्वारा निराला जयंती समारोह का आयोजन किया गया। पंडित निराला ने गद्य और पद्य में रचनाओं का सृजन कर शोषित और पीड़ितों के दर्द को उजागर किया है। देश को आजादी दिलाने वाले संघर्ष में लगे लोगों को अपनी रचनाओं के माध्यम से पूरी निर्भीकता के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया। पंडित निराला की कविताएं आज भी प्रासंगिक हैं और समाज के लिए दिशा देने में सशक्त एवं सक्षम है। 

यह उद्गार महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्व विद्यालय के कुलपति प्रोे नरेश चंद्र गौतम ने व्यक्त करते हुए विद्यार्थियों का आवाहन किया कि उनकी रचनाओं और उनके व्यवहारिक जीवन से सीख लें। हिंदी विभाग में आयोजित निराला जयंती समारोह के दौरान विभागाध्यक्ष डॉ कुसुम सिंह ने पंडित सूर्यकांत त्रिपाठी निराला के जीवन तथा व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला। अध्यक्षता कला संकाय के अधिष्ठाता प्रो वाई.के सिंह ने की। हिंदी के विद्यावत प्राध्यापक द्वय डॉ ललित कुमार सिंह एवं डॉ राममूर्ति त्रिपाठी ने निराले अंदाज पर निराला की रचनाएं पढ़ी। व्यवहारिक जीवन में उनकी उपयोगिता को रेखांकित किया। इस अवसर पर डॉ अजय चैरे सहित विश्व विद्यालय के छात्र-छात्राएं मौजूद रहे। 


No comments