Latest News

सड़क की खुदाई,ठेकेदारों की लापरवाही

मैं बनी सुंदर पर ठेकेदारों ने मेरी सूरत बिगाड़ दी

मामला है वाराणसी जनपद के हर एक सड़कों का,जिनका निर्माण एक बार नहीं बल्कि अनेकों बार हो चुका है लेकिन फिर भी उन्हें खन खोदकर हमेशा कमीशन के चक्कर में क्षतिग्रस्त किया जाता रहा है

वाराणसी, विक्की मध्यानी । माननीय प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में एलएनटी कंपनी द्वारा एक ही सड़क का निर्माण कई बार होने के बावजूद उसी सड़क को बार-बार खुद खन कर उन्हें हमेशा क्षतिग्रस्त किया जा रहा है जिसके कारण हमेशा हर एक रोड पर जाम की स्थिति हमेशा बनी रहती है।एक ही सड़क को दर्जनों बार उसका निर्माण लोक निर्माण विभाग द्वारा व ग्रामीण अभियंत्रण विभाग द्वारा बार-बार कराया गया। जिसमें विभाग द्वारा हमेशा करोड़ो रुपए का बजट भी दिया गया लेकिन जितनी भी सड़कों का निर्माण हुआ उन्ही सड़को को फिर सरकारी ठेकेदारों द्वारा बार-बार खोद खन कर उन्हें क्षतिग्रस्त किया गया। ऐसा ही एक मामला शिवपुर थाना क्षेत्र के पंचकोशी मार्ग के विवेक ओलंपियन मार्ग से नटनिया दाई मंदिर तक का है। हाल ही में नई सड़क का निर्माण विभाग द्वारा कराया गया लेकिन उसी सड़क के बगल में पानी की पाइप लाइन भी बिछाई गई
लेकिन एलएनटी कंपनी के सरकारी ठेकेदारों द्वारा हमेशा कुछ खामियां होने के कारण बराबर जलजमाव के साथ सड़क पर लगातार पानी भरा होने के कारण उसी सड़क को पुनः खोदकर उसका निर्माण फिर से कराया जा रहा है जबकि हाल में ही 1 वर्ष के भीतर पंचकोशी मार्ग को जो शिवपुर के पांचो पंडवा से लेकर उसे पुरवा तक लगभग 2 किलोमीटर की सड़क बनाई गई थी लेकिन बनाने के थोड़े ही दिन बाद से लगातार उसी सड़क की खुदाई पुनः चलाई गई जिसके कारण हमेशा आवागमन बाधित हुआ जाम की स्थिति हमेशा बनी रहती है, यहां तक कि सुबह-सुबह स्कूली बच्चे जब उसी सड़क से गुजरते हैं भीड़-भाड़ व गाड़ियों की अधिक आवागमन के कारण हमेशा जाम लगने से बच्चों के साथ अप्रिय घटनाएं घटित होती हैं। भारी वाहनों के आवागमन से कई मासूमों की जाने चली गई लेकिन लोक निर्माण विभाग व जल निगम तथा एलएनटी कंपनी बराबर एक ही सड़क का निर्माण बार-बार करता चला आ रहा है।जिन सड़कों की स्थिति खूब अच्छी है उन्हें भी क्षतिग्रस्त करते हुए पूर्ण रूप से यातायात प्रभावित किया जा रहा है। जबकि विभाग द्वारा एक ही सड़क का प्लान पुर्व में तैयार कराकर यदि उसका निर्माण कराया गया होता तो संभवत अधिक से अधिक सरकारी धन बच जाता जिससे वाराणसी शहर का अन्यत्र विकास किया जा सकता था लेकिन प्री प्लान ना होने के कारण यह स्थिति लगातार दयनीय बनी हुई है हर एक सड़कों के बगल बड़े-बड़े गड्ढे खोदे जा रहे हैं गड्ढों की स्थिति ऐसी होती है जैसे हमेशा हादसा मनुष्यों को अपने अंदर समेटने की दावत दे रहा है लेकिन विभाग द्वारा इस पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही यहां तक कि सड़कें भी अपने आप को कोसती हैं कि हममें आखिर क्या दोष है जो मुझे ही सरकारी ठेकेदारों द्वारा बराबर क्षतिग्रस्त किया जा रहा है जबकि मैं अभी नई बनी मेरे अंदर कोई खामी ही नहीं फिर भी सरकारी  ठेकेदारों द्वारा मुझे ही क्षतिग्रस्त किया जा रहा है। इसी भावना से आहत होकर सड़कों के साथ लोग भी हमेशा दिक्कतों को देखते हुए अपने आप को कोसते हैं।

No comments