Latest News

बसंत पंचमी पर यज्ञ, बताये उसके लाभ

हमीरपुर, महेश अवस्थी । अखंड आश्रम बिहुनीखुर्द मुस्करा में बसंत पंचमी पर पाच कुण्डीय गायत्री यज्ञ का आयोजन किया गया। जिसे गायत्री शक्तिपीठ राठ के चन्द्रशेखर मिश्र लक्ष्मणलाल त्रिपाठी श्यामबिहारी की पूरी टोली ने अच्छे ढंग से यज्ञ सम्पन्न कराया। राठ से जगदीश चाचैदिया, नीरज बुधौलिया, संस्कृत विद्यालय, परमात्मानंद जूनियर हाइस्कूल, प्राथमिक हाइस्कूल, प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक आर बच्चा ने भागीदारी की।
यज्ञ करते सुधीजन
उन्होने यज्ञ का महत्व और लाभ बताया। हरस्वरूप व्यास ने सभी को आभार जताया। 
सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर कालेज हमीरपुर मे बसन्त पंचमी कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्ज्वलन, पुष्पार्चन एवं वन्दना तथा हवन पूजन के साथ हुयी। मुख्य यजमान प्रधानाचार्य रमेशचन्द्र सहित अभिभावक कुलदीप सिंह भदौरिया एवं उनकी धर्मपत्नी रचना भदौरिया रहे। प्राचार्य ने कहा कि माॅ सरस्वती का नाम वाणी की देवी भी है। हाथो मे वीणा होने के कारण इन्हे वीणापाणि भी कहा जाता है। चूकि सृष्टि के निर्माण के समय देवी सरस्वती बसन्त पंचमी के दिन प्रकट हुयी थी। अतः बसन्त पंचमी को माॅ सरस्वती की पूजा अर्चना की जाती है। संगीताचार्य ज्ञानेश जड़िया ने माॅ सरस्वती की वन्दना प्रस्तुत की तथा विद्यालय के समस्त स्टाफ एवं छात्र छात्राओ ने यज्ञ मे आहॅूतिया डाली। संचालन आचार्य बलराम सिंह ने किया। आभार प्रदर्शन बलवीर सिंह ने किया। 

No comments