Latest News

सत्संग से होती है ईश्वर की प्राप्ति: दीपक कृष्ण

अतर्रा, कृपाशंकर दुबे । श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस पर वृंदावन से पधारे कथा व्यास पंडित दीपक कृष्ण महाराज ने कथा श्रवण कराते हुए कहा कि सत्संगत से ही ईश्वर की प्राप्ति होती है। संत तुलसी ने सत्संगत की महिमा का वर्णन करते हुए लिखा है कि सत्संगत महिमा अति गोई अर्थात गूढ है जो बिना ईश्वर की कृपा के नहीं मिलती। संसार का मिलना ही सुख और दुख का कारण है। सत्संग पूर्व जन्म के पुण्य प्रताप उदय होने पर प्राप्त होता है। कल्पवृक्ष सभी मनोभावों के अनुसार मनोरथों को पूर्ण करने वाला वृक्ष है किंतु भागवत ऐसा कल्पवृक्ष है
 श्रीमद्भागवत महापुराण पर माल्यार्पण करते एसडीएम सौरभ शुक्ला 
जिसमें अच्छे विचारों का फल तो मिलता है किंतु बुरे विचारों का फल नहीं देता बल्कि चित्त को शुद्ध कर देता है। कथा व्यास ने श्रोता को परमहंस की पदवी प्राप्त हो जाने की बात कही है। कथा व्यास ने कहा कि कथा निरन्तर सुनो, जो भगवान की कथा निरन्तर सुनता है उस पर भगवान की कृपा बरसती है।
नगर के स्टेशन रोड निवासी पत्रकार अनंत दीक्षित के आवास पर कथा भागवत का शुभारंभ कथा वक्ता पंडित दीपक कृष्ण महाराज एवं उप जिलाधिकारी अतर्रा सौरभ शुक्ला तथा कोतवाली निरीक्षक इंस्पेक्टर रवींद्र तिवारी द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। इसके उपरांत व्यासपीठ एवं भागवत भगवान की पूजा अर्चना सम्पन्न हुई। परीक्षित माधुरी विद्याभूषण दीक्षित हैं जबकि व्यवस्था उनके पुत्र अनंत दीक्षित जी देख रहे हैं। इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता साकेत बिहारी मिश्रा, अधिवक्ता ब्रह्मदत्त शुक्ला, पंडित महादेव शुक्ला, रवींद्र द्विवेदी, मृत्युंजय द्विवेदी, अर्जुन मिश्रा सहित सैकड़ों कथा प्रेमी मौजूद रहे।

No comments