Latest News

आकर्षक होगा कानपुर में गंगा बैराज से प्रवेश

लखनऊ-उन्नाव की ओर से कानपुर का प्रवेश द्वार गंगा बैराज आने वाले दिनों में और आकर्षक होगा। लवकुश बैराज के नाम से बने इस बैराज पर न केवल एक 200 फीट ऊंचा तिरंगा लहराएगा और बिठूर में जन्मस्थली होने के कारण लव-कुश की प्रतिमाएं भी स्थापित होंगी। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहमति दे दी है।
कानपुर गौरव शुक्ला:- गंगा बैराज का निर्माण औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना के पूर्व कार्यकाल के दौरान हुआ था और इसका नाम भी लव-कुश बैराज रखा गया था। बैराज पर लव-कुश की प्रतिमा की स्थापना के लिए औद्योगिक विकास मंत्री ने लखनऊ में मुख्यमंत्री से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने प्रतिमा और विशाल तिरंगा लगाए जाने की सहमति दी है। माना जा रहा है कि औद्योगिक विकास विभाग और जलशक्ति विभाग मिलकर इस प्रतिमा और ध्वज निर्माण का काम करेगा।

मंत्री सतीश महाना ने कहा कि यह लवकुश के जन्म की पावन भूमि है। इसलिए उनकी प्रतिमा यहां लगनी चाहिए। इससे इस स्थान की महत्ता और बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि 200 फीट ऊंचे तिरंगे का आकार मानक के अनुरूप तय होगा। इस संबंध में जलशक्ति मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह से भी वार्ता हो गई है। जल्द ही पूरी योजना तैयार करके काम शुरू कर दिया जाएगा।

पिकनिक स्पॉट बन गया है बैराज

गंगा बैराज शहर का पिकनिक स्पॉट भी बन गया है। इसका आकर्षण अब आसपास के जिलों से आने वाले लोगों में भी बेहद है। हाल ही में प्रशासन ने गंगा बैराज पुल की ग्रिल ऊंची कराने के निर्देश दिए थे। साथ ही बैराज के पास ही अटल घाट का भी निर्माण कराया गया है। नमामि गंगे परियोजना की बैठक के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी यहां आए थे।

इतना ही नहीं बीते दिनों बलिया और बिजनौर से चलकर कानपुर पहुंचीं गंगा यात्राओं का समागम भी यहीं हुआ था। बैराज के पास ही घाट पर गंगा महाआरती का आयोजन किया गया था। अब गंगा पर बने बैराज को कानपुर में क्रांति के गौरवशाली इतिहास को ध्यान में रखते प्रवेश द्वारा पर सबसे ऊंचा तिरंगा लहराने की तैयारी है तो प्रभु श्रीराम के पुत्र लव और कुश की प्रतिमा स्थापित करके आस्था की बयार भी बहेगी।

No comments