Latest News

डीएम ने समीक्षा बैठक कर अधिकारियों को चेताया

धरातल पर योजनाओं का संचालन कराने के दिए निर्देश

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में विकास प्राथमिकता कार्यक्रमों की समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई।
जिलाधिकारी ने समीक्षा करते हुए समस्त अधिकारियों से कहा कि शासन की मुख्य योजनाओं पर धरातल पर कार्य चाहिए। इसमें अगर कोई भी विभाग लापरवाही करेगा तो संबंधित के खिलाफ कार्यवाही होगी। कहा कि लाभार्थीपरक योजनाएं जनपद में संचालित हैं उनकी सूचना जन प्रतिनिधियों को उपलब्ध करा दी जाए। खण्ड विकास अधिकारियों से कहा कि प्रत्येक दशा में गांव में मनरेगा के कार्य चलते रहें और आंगनबाड़ी केंद्र के निर्माण जो कराए गए हैं उन केंद्रों पर वाल पेंटिंग अवश्य हो। मुख्यमंत्री आवास योजना में अच्छी तरह से पेंटिंग कराएं। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सड़कों के अनुरक्षण का कार्य ठीक ढंग से नहीं हो रहा है इसमें गुणवत्ता का विशेष ध्यान दिया जाए। मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि खेत तालाब योजना का सत्यापन कराया जाए तथा आईडब्ल्यूएमपी के कोई अधिकारी नहीं है। उसमें प्रमुख सचिव को पत्र
लिखा जाए तथा इनके कार्यों की भी जांच करें। मऊ बरगढ़ पेयजल योजना की जांच अधिकारियों के द्वारा की जा रही है वह गांववार पांच दिन के अंदर रिपोर्ट उपलब्ध करा दें। हन्ना बिनैका व सुरसेन पेयजल योजना का कार्य तत्काल पूर्ण करा दिया जाए। उन्होंने ग्रामीण पेयजल योजनाओं के संबंध में कहा कि जल निगम के अधिकारी जिला पंचायत राज अधिकारी को रिपोर्ट प्रस्तुत कर दें कि क्या कमियां है। ताकि उस पर चैदहवां तथा राज्य वित्त आयोग से ग्राम पंचायत के माध्यम से कार्य कराया जा सके। परियोजना प्रबंधक जल निगम को निर्देश दिए कि पराको पेयजल योजना की पूरी रिपोर्ट तत्काल उपलब्ध कराएं। जिससे जांच कराई जा सके। अगर उसमें अनियमितता पाई गई तो उस समय के अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही कराई जाए। मुख्यमंत्री हेल्पलाइन तथा आईजीआरएस की समस्याओं के निस्तारण पर कहा कि समयबद्ध तरीके से गुणवत्ता का विशेष ध्यान दें। 
जिलाधिकारी ने कहा कि मेगा कैंप में लाभार्थीपरक योजनाओं का लाभ दिया जाए। उपायुक्त स्वतः रोजगार से कहा कि सभी एपीओ तथा रोजगार सेवकों को लगाकर श्रम विभाग में जॉबकार्ड धारक मजदूरों का शत प्रतिशत पंजीयन करा दिया जाए। ताकि उन्हें योजनाओं का लाभ मिले। मेगा कैम्पों का प्रचार-प्रसार अधिक से अधिक गांव में कराया जाए। उन्होंने उप निदेशक कृषि को निर्देश दिए कि गांव भ्रमण के दौरान प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की समस्याएं प्राप्त होती है। इसका निस्तारण कराएं। अवशेष किसानों का शत प्रतिशत पंजीयन कराकर लाभ दें। कहा कि स्वच्छ शौचालयों का निर्माण सत प्रतिशत 15 फरवरी तक करा लिया जाए। कहीं पर कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। अगर कोई प्रधान व सचिव लापरवाही करता है तो संबंधित के खिलाफ कार्यवाही की जाए। खण्ड विकास अधिकारियों से कहा कि जो शौचालय का संशोधन हुआ है उसके अलावा अब किसी भी दशा में संशोधन नहीं होगा। अगर कोई इस पर सूचना दे तो संबंधित सचिवों के खिलाफ कार्यवाही की जाए। अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद को निर्देश दिए कि रामघाट पर जो चेंजिंग रूम बनाए जाने हैं उन्हें फरवरी माह तक पूर्ण करा दिया जाए तथा उसमें स्वच्छता के स्लोगन आदि भी लिखाएं। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी तथा अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका को यह भी निर्देश दिए कि नगर व ग्रामीण क्षेत्र में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान रहे। अन्ना गोवंश सड़कों पर किसी भी दशा में न घूमें। मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि जनपद में जो अच्छे कार्य कराए गए हैं उनकी एक पुस्तिका तैयार कराकर शासन को भेजें। उन्होंने स्थाई तथा अस्थाई पशु आश्रय केन्द्रों के निर्माण में कहा कि कार्यदाई संस्थाएं इन कार्यों पर तेजी लाएं। गौशाला का निर्माण प्रत्येक दशा में मार्च तक हो जाना चाहिए। उन्होंने उपायुक्त एनआरएलएम को निर्देश दिए कि स्वयं सहायता समूह को लगाकर गौशाला का संचालन तथा गोबर से पंचगव्य के सामान तैयार कराये। सार्वजनिक स्थानो पर टीन शेड शत-प्रतिशत निर्माण हो जाए। जो धनराशि ग्राम पंचायतों को दी जा रही है वह ब्लॉक स्तर पर न पड़ी रहे तत्काल उसे गांव में भेज दिया जाए। कन्या सुमंगला योजना की प्रगति ठीक न होने पर जिला प्रोबेशन अधिकारी को निर्देश दिए कि अपने विभागीय योजनाओं में रूचि लेकर कार्य करें। अन्यथा कार्यवाही की जाएगी। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार, प्रभागीय वन अधिकारी कैलाश प्रकाश, जिला विकास अधिकारी आरके त्रिपाठी, परियोजना निदेशक अनय कुमार मिश्रा, जिला पंचायत राज अधिकारी राजबहादुर, उप कृषि निदेशक टीपी शाही, अर्थ एवं संख्या अधिकारी राजेश कुमार सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments