Latest News

दाल उत्पादन से किसान की आर्थिक स्थिति होगी मजबूत, जलवायु भी बदलेगी

वैज्ञानिको ने गोष्ठी में किसानो किया जागरूक 

हमीरपुर, महेश अवस्थी । विश्व दाल दिवस पर पुलिस परेड ग्राउंड हमीरपुर में एग्रोक्लाइमेटिक एक दिवसीय किसान मेला व प्रदर्शनी लगायी गयी। जिसकी अध्यक्षता जिला पंचायत अध्यक्ष जयन्ती राजपूत ने की। यहां नगर पालिका अध्यक्ष कुलदीप निषाद विभिन्न विभागो के अधिकारियों ने दाल की महत्ता और उपयोगिता पर विचार रखें। किसान अधिक उत्पादन प्राप्त कर, खेती की लागत में कमी लाने तकनीकि व वैज्ञानिक सघन खेती के बारे
उद्यान विभाग के स्टाल को देखती विधायिका
में डा. शालिनी, डा. एसपी सोनकर ने जानकारी दी। वक्ताओं ने दालो में प्रोटीन की उपलब्धता, वसा, घुलनशील रेशे और ब्लड शुगर को कम करने की उपयोगिता होती है। दालें विश्व की बडी जनसंख्या का प्रमुख भोजन है और कभी बुुन्देलखण्ड मंे इसका सर्वाधिक उत्पादन होता था। दालो से जलवायु परिवर्तन करने व नियंत्रित करने में सहायता मिलती है। दलहन के उत्पादन से विशेषकर बुन्देलखण्ड के क्षेत्र मंे जल संरक्षण की बडी भूमिका है। कार्यक्रम का संचालन डा. जीके द्विवेदी कर रहे थे, विभिन्न विभागो द्वारा संचालित योजनाओं, कृषि
यंत्रो की प्रदर्शनी और स्टाल भी लगाये गये। कार्यक्रम मंे सहभागिता के लिए बुन्देलखण्ड के सातो जिलो से बडी संख्या में किसानो ने भागीदारी की थी। परेड ग्राउंड मे लगे स्टालों को मनीषा अनुरागी विधायिका राठ ने देखा और इसके बारे में अधिकारियों से चर्चा भी की। औढेरा के मोतीलाल, संतराम कुशवाहा सरसई, मुन्नालाल धमना, मोतीलाल परा, गयाप्रसाद कुशवाहा बसेला, विनोद बाबू कुसमरा, केशवप्रसाद मिश्रा शेखूपुर, रघुवीर सिंह चिल्ली, सुनील कुमार मुस्करा खुर्द ने शहद उत्पादन समेत बडी संख्या में किसानो ने सब्जी, औषधियों के उत्पादन को प्रदर्शित किया। 

No comments