Latest News

दिल्ली चुनाव के नतीजों का स्तर क्या......

देवेश प्रताप सिंह राठौर 
( वरिष्ठ पत्रकार)

दिल्ली चुनाव हो गए हैं प्रणाम सामने आ गए आपने देख लिया कि   एक तरफ विकास है एक तरफ हर चीज माफ कर देना और बहुत सारी चीजें फ्री में  बांटना आज भारत देश की स्थिति  बहुत खराब हो गई है कि विकास के नाम पर वोट कब मिलते है बिजली का बिल माफ कर देना पानी का टैक्स माफ कर देना मेट्रो ट्रेन में यात्रा महिलाओं की फ्री कर देना बसों में यात्रा फ्री कर देना हर चीज फ्री कर दो तो आदमी यही चाही रहा है आने वाले समय में हाउस टैक्स भी फ्री हो जाएगा खाना भी देने चले जाएंगे घर सिर्फ अपने मुंह चला कर खाना है कौन हरा पाएगा ऐसे दलों कोउस पार्टी को हमारा देश महान देश है इस देश में बहुत से बड़े-बड़े क्रांतिकारी पैदा हुए जिन्होंने देश को बहुत ही मुश्किल से आजादी प्राप्त कराई आज लोग अपने स स्वार्थ में अपने हित में इंसान को मक्कार बनाने का पूरा इंतजाम कर रहे हैं दिल्ली के  चुनाव के परिणाम आए हैं इसमें यह सब दिखाई दिया आज जो दिल्ली का परिणाम सामने प्रकट हुआ है उस प्रणाम से स्पष्ट हो गया है किसान विकास के नाम पर राष्ट्र के नाम पर मजबूती के नाम पर देश में कार्य नहीं कर रहा है। उसे सिर्फ एक चीज दिखाई देती है कि हमें कहां से
लाभ मिल रहा है उसे लाभ मिलता रहेगा देश कहीं जाए उससे उसे कोई मतलब नहीं है, आज दिल्ली में जो जीत हुई है उसका जीत का मुख्य कारण रहा है बहुत सी विधा सरकार ने फ्री सुविधाएं प्रदान की कि दिल्ली में जिस तरह से आप पार्टी ने बहुत सी चीजें माफ किए, घर बनवा कर दे दिया है मोदी जी ने बिजली पानी फ्री कर दिया है केजरीवाल  ने और क्या चाहिए सब कुछ तो मिल गया है रहा सहा वह भी पूरा होता रहेगा हां पार्टी जो तीसरी बार केजरीवाल की दिल्ली में सरकार बनी है , मुख्यमंत्री के रूप में 13 से 15 तक रहे 15 से 20 तक एवं अभी से 25 तक मुख्यमंत्री रहेंगे  फिर बन गए मुख्यमंत्री यह काम का नतीजा नहीं है यह स्पष्ट हो गया इस देश की जनता चाहती है हमें काम नहीं चाहिए हमें हराम का चाहिए इंसान को मक्कार बनाने का पूरा इंतजाम बताया जा रहा है जिस तरह से कांग्रेस ने गलत नीतियों के तहत देश को गर्त में डाल दिया है आज भारत देश क्या इन75 साल हो गए क्या विकास जितना अन्य देशों ने किया है उतना ही होना चाहिए मैं आज एक बात और कहूंगा भारतीय जनता पार्टी अभी भी सुधारने का टाइम है मोदी के बूते पर पूरे देश को जिताना और स्वयं का लेना करना यह एक भाजपा के नेताओं की बहुत बड़ी कमी है भारतीय जनता पार्टी का नेता कोई भी हो किसी प्रकार का कार्य  से लेकर कानूनी काम तक करने पसंद जनता का नहीं करता है ना जनता की कोई बात जनता की होती है क्योंकि चीजें दिल्ली के चुनाव में भाषा चीते आप पार्टी ने पाए और 8 सीटें बीजेपी ने पाए और काग्रेस  की पार्टी कांग्रेसी लिए सुन्य है। कांग्रेस का कहना है हम तो डूबे सनम तुझको भी ले डूबेंगे कांग्रेसका एक मकसद है कि बीजेपी को हराअो कोई भी चुनाव जीते हमें कोई लेना-देना नहीं, तेज से क्या लेना देना लेकिन एक बात सत्य है बीजेपी के नेता कोई भी काम नहीं करता है श्रम मोदी के दम पर चुनाव जीतना चाहते हैं तो आप समय निकल रहा है धीरे-धीरे अगर बीजेपी अभी भी सुधार नहीं किया और उनके क्षेत्रीय नेता कार्यकर्ताओं के हित की बात नहीं किए हो कार्यों पर ध्यान नहीं दिया तो वह दिन दूर नहीं जिस पायदान पर थे उसी पर आ सकते हैं आज बहुत से लोगों के मुंह से सुनते हैं कि सपा की सरकार में कार होते थे आज कोई कार्य नहीं होते हैं किसी मंत्री किसी विधायक के पास जाओ तो कभी नहीं करता है सब बातें बनाता है यह हाल है बीजेपी के विधायकों सांसदों का जब विधायक सांसद कार्यकर्ताओं का कार्य नहीं कर पाएंगे कार्यकर्ताओं के पास समय नहीं देंगे कार्यकर्ताओं की बातों को तवज्जो नहीं देंगे तो कैसे जीते हैं यह बहुत ही कठिन विषय है इसको केंद्रीय मंत्रिमंडल के मुखिया सब्जी नहीं वह दिन दूर नहीं है क्योंकि 2021 में पश्चिम बंगाल का चुनाव होने वाला है उसमें भी अस्तित्व नहीं है वह क्या होगी वह समय आने पर पता चलेगा लेकिन संकेत भाजपा के लिए मिल गए हैं सुधरो सुधारो कम नहीं चले जाओगे सत्ता बिहीन राज्य हो जाएंगे ।

No comments