Latest News

अंधेरे से डर लगना भी मानसिक बीमारी का लक्षण

केसीएनआईटी में आयोजित किया गया राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य शिविर 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । शनिवार को काली चरण निगम ग्रुप आॅफ इंस्टीट्यूशन सभागार में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य शिविर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिला अस्पताल के चिकित्सकों की टीम के द्वारा मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की जानकारी दी गयी। जिला अस्पताल के मेडिकल आफीसर डा. हरदयाल (डी.एम.एच.डी.) के द्वारा बच्चों को मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जानकारी दी गयी तथा मनोचिकित्सक डा. रिजवाना हाशमी के द्वारा मानसिक रोग होने के कारण और उसके बचने के उपायों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि यदि कोई 
स्वास्थ्य शिविर में डाक्टरों के कहने पर आंखे बंद कर अंधेरे का एहसास करते छात्र-छात्राएं 
बहुत कम सोता हो या बहुत ज्यादा नींद आती हो, मन में उत्साह की कम, उदासी की भावना, अंधेरे से डार लगता हो, दूसरों न सुनाई देने वाली काल्पनिक आवाजे सुनाई देना आदि ऐसे लक्षण है जो यह बताते है कि वह व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार है। हमें ऐसे लक्षणों को देखकर तुरन्त डाॅक्टर से परामर्ष करना चाहिए। परामर्ष लेने में कोई संकोच या हिचक नहीं करनी चाहिए, ऐसा आप तौर पर लोग करते है कि मैं तो पागल हो गया हूँ, अब लोग क्या कहेंगे, जबकि मानसिक बीमारी एक अलग विषय है यदि सही से इसके पहचान कर इसका इलाज किया जा सकता है। डा. नरेन्द्र मिश्रा के द्वारा कार्यक्रम संचालित किया गया। इस कार्यक्रम में कालेज के डीन डाॅ. संजीव कुमार शुक्ल, श्यामजी निगम एवं काॅलेज द्वारा संचालित प्रयास क्लब के प्रभारी अषोक शर्मा सहित छात्र-छात्रओं, षिक्षक एवं अन्य कर्मचारी गण उपस्थित रहे। अन्त में प्रयास क्लब प्रभारी अषोक शर्मा जी ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद ज्ञापन दिया। 

No comments