Latest News

सरोजनी सच्चे अर्थो में थी राष्ट्रसेवी महिला

हमीरपुर, महेश अवस्थी । भारत कोकिला सरोजनी नायडू के जन्मदिन पर आयोजित कार्याशाला में प्राचार्य डा. भवानीदीन ने कहा कि वे सच्चे अर्थो एक राष्ट्रसेवी महिला थी। उप्र. की पहली महिला राज्यपाल बनी और कांग्रेस की पहली महिला राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहीं। उनसे राष्ट्रप्रेम की शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए। वे एक प्रेरणाश्रोत रही। उन्होेने 12 वर्ष की आयु मे 12वीं की परीक्षा अच्छे अंको मे पास की थी। उन्होने उच्च अध्ययन लंदन में जाकर
किया। गोखले को वें अपना राजनैतिक पिता मानती थी और गांधी जी से प्रभावित थी। इनका रचना संसार बहुत बड़ा था। काव्य संग्रह भी लिखा, राष्ट्रीय आन्दोलनो में वे जेल भी गयीं। यह नाइटिंगल आफ इंडिया कहलाती थीं। इनके योगदान को भुलाया नही जा सकता। डा. श्यामनारायण, डा. लालता प्रसाद, आलोक राज, प्रदीप यादव, देेवेन्द्र त्रिपाठी, आनन्द विश्वकर्मा, रामप्रसाद, आरती गुप्ता, नेहा यादव, राजकिशोर पाल ने भी विचार रखें। संचालन डा. रमाकान्त पाल कर रहे थे। 

No comments