Latest News

ताम्बेश्वर चौराहे से रातों-रात गायब हुयी कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा

उग्र हुए सपाईयों ने कलेक्ट्रेट में काटा हंगामा 
प्रतिमा वापस न आने पर सपाईयों ने दी आन्दोलन की धमकी 
एसडीएम व सीओ बोले- प्रतिमा कहां है, नहीं जानकारी 

फतेहपुर, शमशाद खान । ताम्बेश्वर चैराहे पर जननायक कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा स्थापना के बाद से इसका विवाद लगातार गहराता जा रहा है। गुरूवार की भोर अराजकतत्वों ने पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिमा को गायब कर दिया। सुबह जब लोग वहां से गुजरे तो देखा कि प्रतिमा गायब थी। देखते ही देखते यह खबर जंगल में आग की तरह पूरे शहर में फैल गयी। इस पर उग्र हुए सपाईयों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर हंगामा काटा और प्रतिमा वापस न आने पर आन्दोलन की धमकी भी दे डाली। सपाईयों ने एसडीएम को ज्ञापन देकर तत्काल प्रतिमा को चैराहे पर लगवाये जाने की मांग की। इस मामले पर जब एसडीएम व सीओ से बात की गयी तो दोनों अधिकारियों का कहना रहा कि प्रतिमा कौन ले गया और कहां है इसकी उन्हें जानकारी नहीं है। मामले की जांच की जा रही है। 
बताते चलें कि नगर पालिका परिषद की बोर्ड बैठक में हुए प्रस्ताव के तहत ताम्बेश्वर चैराहे का नगर पालिका द्वारा जीर्णोद्धार कराया गया। तत्पश्चात बोर्ड बैठक में लिये गये निर्णय के अनुसार ही इस स्थान पर जननायक
ताम्बेश्वर चैराहे से गायब कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा का दृश्य व प्रदर्शन करते सपाई।  
कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा स्थापित करवा दी गयी थी। प्रतिमा स्थापना के बाद से ही विरोध के स्वर उठने लगे थे। कुछ स्थानीय लोगों के साथ-साथ अन्य संगठनों के पदाधिकारियों ने ताम्बेश्वर चैराहे पर लगी कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा का विरोध करते हुए इसे हटवाकर अन्यत्र किसी स्थान पर स्थापित कराये जाने के साथ ही इस चैराहे पर नन्दी की प्रतिमा स्थापित करवाये जाने की मांग की थी। इस मामले को लेकर कई बार जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी व चेयरमैन प्रतिनिधि को ज्ञापन दिये गये थे। लेकिन अब तक प्रशासन द्वारा इस पर कोई ठोंस कार्रवाई न किये जाने से मामला बढता गया और गुरूवार की देर रात कुछ अराजकतत्वों ने ताम्बेश्वर चैराहे पर लगी कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा को हटा दिया। जब सुबह लोगों को इसकी जानकारी हुयी तो यह खबर आग की तरह पूरे शहर में फैल गयी। जैसे ही इसकी जानकारी समाजवादी पार्टी के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को हुयी तो सपाई उग्र हो गये और जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह यादव की अगुवई में कलेक्ट्रेट पहुंचकर कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा हटाये जाने पर हंगामा किया। सपाईयों का कहना रहा कि बोर्ड बैठक में हुए प्रस्ताव के तहत ही कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा ताम्बेश्वर चैराहे में स्थापित की गयी थी। इस पर विरोध करना ओछी मानसिकता को प्रदर्शित करता है। सपाईयों का कहना रहा कि यदि प्रतिमा जल्द ही चैराहे पर दोबारा न लगी तो सपाई आन्दोलन के लिए विवश हो जायेंगे। तत्पश्चात सपाईयों ने एक ज्ञापन उपजिलाधिकारी को सौंपा। इस मामले पर जब एसडीएम प्रमोद झा से मोबाइल पर बात की गयी तो उनका कहना रहा कि कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा कौन ले गया और कहां है इसकी उन्हें जानकारी नहीं है। सपाईयों ने ज्ञापन दिया था। मामले की जांच सीओ को सौंप दी गयी है। सीओ सिटी केडी मिश्रा से जब बात की गयी तो उनका भी जवाब एसडीएम से मिलता-जुलता रहा। उनका भी कहना रहा कि प्रतिमा किसने हटाई इसकी जानकारी नहीं है। जांच कर अराजकतत्वों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। 

No comments