Latest News

सीयूजी पर काॅल अटैंड कर पीड़ितों की सुने थानेः जेएनसिंह

आईजीआरएस में अब्बल रहने पर एसपी की पीठ थपथपाई एडीजी ने 

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण के साथ ही थाना कोतवालियों में आने वाले पीड़ितों की समस्याओं को गंभीरता से लेकर निस्तारण करने पर जोर देने के साथ ही अपर पुलिस महानिदेशक कानपुर जोन ने महिलाओं की सुरक्षा के प्रति सतर्क करने और उन्हें तत्काल सहायता उपलब्ध कराने के लिए आज डायल 112 की चार पीआरबी वाहनों को झंडी दिखाकर रवाना किया।
    आज सुबह उरई पहुंचे अपर पुलिस महानिदेशक कानपुर जोन जयनारायण सिंह तथा पुलिस उपमहानिरीक्षक परिक्षेत्र झांसी एसपी बघेल का दिन भर व्यस्त कार्यक्रम रहा। सुबह सर्किट हाउस में एडीजी को गार्ड आॅफ आनर देकर स्वागत किया गया। तदोपरांत उन्होंने पुलिस लाइन में रिजर्व पुलिस बल तथा अन्य पुलिस कर्मियों के लिए सब्सिडीयरी कैंटीन का उद्घाटन किया। पुलिस अधीक्षक डा. सतीश कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक डा. अवधेश सिंह की उपस्थिति में पुलिस के जवानों के लिए सस्ती कैंटीन का शुभारंभ करते हुए अपर पुलिस महानिदेशक जयनारायण सिंह ने कहा कि इससे जवानों को बाजार से सस्ता खाना उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने पुलिस लाइन उरई में अधीनस्थ अधिकारियों की उपस्थिति में चार महिला पीआरबी वाहनों को झंडी दिखाकर
पुलिस अधिकारियों की बैठक लेते एडीजी।
रवाना किया। उन्होंने बताया कि प्रत्येक पीआरबी में दो-दो महिला पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया है। यह पीआरबी किसी महिला के द्वारा सड़क पर अकेला होने तथा अपने आपको असुरक्षित पाने की दिशा में आपातकालीन नंबर 112 डायल करने पर उन्हें गंतव्य स्थान पर सुरक्षित पहुंचाने का काम करेगी। इसके अलावा महिलाओं से संबंधित सूचनाओं पर नजर रखेगी। जिससे महिला उत्पीड़न व हिंसा की घटनाओं को रोकने में मदद मिल सकेगी। 
      एडीजी जोन कानपुर जेएन सिंह ने पुलिस लाइन सभागार में आयोजित थानाध्यक्षों एवं क्षेत्राधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने पुलिस महानिदेशक के निर्देशों के क्रम में स्पष्ट किया कि अक्सर यह शिकायते आती है कि सीयूजी नंबर अटैंड नही किए जाते है और क्षेत्रीय पुलिस का कार्य व्यवहार सही नही रहता यह अच्छी बात नही है। उन्होंने स्पष्ट किया कि थाना स्तर पर जो भी सूचनाएं आये उन्हें अटैंड किया जाए। बीट सिस्टम को मजबूत किया जाए जो भी बीट आरक्षी है। उनका कार्य व्यवहार सही होना चाहिए और हर एक को अपने बीट क्षेत्र के बारे में जानकारी होना चाहिए। कार्य आचरण एवं कार्य के प्रति निष्ठा पर जोर देते हुए एडीजी ने पीड़ितों के साथ गलत व्यवहार करने वालों, सिपाही से लेकर थानाध्यक्ष एवं राज पत्रित अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की चेतावनी दी। उन्होंने शिवरात्रि एवं होली जैसे संवेदनशील त्यौहारों को देखते हुए सभी थानाध्यक्षों को अपने-अपने क्षेत्रों के अराजकतत्वों पर नजर रखने और उन्हें जरूरत पड़ने पर पाबंद करने के निर्देश दिए। आईजीआरएस में लगातार अच्छे परिणाम के लिए उन्होंने पुलिस अधीक्षक से लेकर सभी अधीनस्थ अधिकारियों कर्मचारियों को बधाई दी। उन्होंने मध्यप्रदेश से अपराधियों के दखल पर स्पष्ट किया कि सीमावर्ती थाना स्तर पर बैठके होती रहती है और अब इस पर अधिक ध्यान दिया जाए। 

No comments