Latest News

रोजगार के अवसर तैयार करेगा एक्सप्रेस वे: पीएम

नानाजी के ग्रामीण स्वावलम्बन को सराहा
किसान उत्पादक संगठन योजना का किया शुभारंभ

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । भारतरत्न राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख ने चित्रकूट की धरती से भारत को स्वावलम्बन के रास्ते पर ले जाने का व्यापक प्रयास शुरू किया था। दो दिन पहले ही नानाजी को उनकी पुण्यतिथि पर देश ने श्रद्धापूर्वक याद किया है। ये हम सभी का सौभाग्य है कि ग्रामोदय से राष्ट्रोदय के उत्थान को नानाजी ने अपना जीवन जिया। उसे साकार करने वाली हजारों करोड की विकास योजनाओं का शिलान्यास आज चित्रकूट की पवित्र धरती से हो रहा है। 

यह बात देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चित्रकूट के गोण्डा में बन रहे बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के शिलान्यास अवसर पर कही। उन्होंने सबसे पहले उपस्थित जन समूह से क्षमा मांगी। कहा कि उन्होंने हेलीकाप्टर से देखा है कि जितने लोग अंदर है उससे कहीं ज्यादा लोग बाहर हैं और अंदर आने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन आ नहीं पा रहे। इस असुविधा के लिए वह सभी से क्षमाप्रार्थी है। कहा कि इतनी बडी तादाद में आने का मतलब है कि लोगों में विकास की योजना के प्रति गहरा विश्वास है। प्रधाानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गोस्वामी तुलसीदास की चैपाई सुनाते हुए कहा कि चित्रकूट के घाट पर भई संतन की भीड...। आज सभी को देख कर आपके इस सेवक को ऐसी अनुभूति हो रही है। चित्रकूट सिर्फ एक धाम नहीं है बल्कि संकल्प और तपो स्थली है। चित्रकूट की धरती ने देश में मर्यादाओं के संस्कार गढ़े हैं। यहां से भारत के समाज को नए आदर्श मिले हैं। कहा कि बुन्देलखण्ड के विकास को बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे जनजीवन को बदलने वाला सिद्ध होगा ही। करीब 15 हजार करोड रुपए की लागत से बनने वाला एक्सप्रेस वे रोजगार के हजारों अवसर तैयार करेगा। साथ ही सामान्य जन को बड़े शहरों की सुविधा से जोड़ेगा। किसानों की आय बढ़ाने को दस हजार किसान उत्पादक संगठन योजना लांच की गई है। किसान फसल बोएगा और कुशल व्यापारी की तरह मोलभाव कर उपज का सही दाम प्राप्त करेगा। उन्होंने मौजूद अपार जनसमूह से आग्रह किया कि कार्यक्रम के बाद तुरंत जाने की गलती मत करना। यहां देशभर के सफल एफपीओ की प्रदर्शनी लगी है। जिसे देख कर उनका सीना चैड़ा हो गया है कि किसान किस तरह उत्पादन कर रहे है। कहा कि अलग-अलग राज्यों से आए किसानों की प्रदर्शनी देखकर सीख लें। 

उन्होंने कहा कि किसानों से जुड़ी जो नीतियां थी उसे भाजपा सरकार ने निरंतर नई दिशा दी है। किसानों के हित में पिछले पांच वर्षों में अनेकों फैसले लिए गए हैं। किसानों की आय बढ़ाने की अहम यात्रा का आज भी एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। बताया कि साढे आठ करोड़ किसान परिवारों के बैंक खातों में सीधे 50 हजार करोड़ की धनराशि जमा हो चुकी है। चित्रकूट सहित उप्र में दो करोड से ज्यादा किसानों के खातों में करीब 12 हजार करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं। उन्हेोंने जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि बीते दशकों में वो दिन देखे हैं जब बुन्देलखण्ड के नाम पर किसानों के हजारो करोड़ के पैकेज घोषित होते थे, लेकिन किसानों को लाभ नहीं मिलता था। अब उन दिनो को पीछे छोड़ चुका है। दिल्ली से निकलने वाली सभी योजनाओं का पाई-पाई उसके हकदार तक सीधे पहुंच रहा है। 

No comments