Latest News

जातिगत राजनीति ही विकास में बाधक.....

देवेश प्रताप सिंह राठौर 
(वरिष्ठ पत्रकार)

आज देश की राजनीति अपने व्यक्तिगत लाभ के कारण  बहुत से दल जातिगत राजनीति पर चल रही है, उनमें एक दल नहीं है अनेक है जैसे उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के निर्माता हिंदू है पर आज उनके समीकरण मुसलमान से तय होते हैं तथा उन्हीं की राजनीत से आज राष्ट्रीय स्तर के नेता बने तथा चार बार मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश के रहे ,वहीं पर दूसरा नाम आता है बसपा  हिंदू निर्माता है जिनके कारण राजनीति चली तीन बार मुख्यमंत्री रहे जो दलित की राजनीति करती आयी है और इसी कारण हमारा देश विकास नहीं कर पाता है क्यों कुछ जातिगत राजनीति के कारण हम आप सब अपना बड़ा हितेषी अपने राजनीतिक दल को समझ लेते हैं जबकि ऐसा है नहीं क्योंकि आपको मोहरा राजनीति में डालकर अपना वैभव बनाते हैं, और हमको आपको मूर्ख बनाने का काम करते हैं जब हमारे आप पर विपत्तियां आएगीऔर पुकारते हैं तो आपको किसी न किसी माध्यम से जाना पड़ता है तब आपको दलित या मुसलमान बनकर जाने पर कोई सुनवाई नहीं होगी और ना अकेले वहां
तक पहुंच पाओगे,कोई किसी को नहीं सहयोग करेगा एक नाम आता है तेलंगना के सांसद असदुद्दीन ओवैसी, असदुद्दीन ओवैसी मुसलमानों की राजनीति करते हैं उनका टारगेट हिंदू होता है अब हम बात करते हैं उत्तर प्रदेश के दो घटक जिन्होंने अपनी राजनीति में एक ने मुसलमानो को पकड़ा जिसके कारण उनकी राजनीत ने खूब रंग जमाया और आज उसी रंग में रंगने के लिए उतावले है क्योंकि जनाधार गिरता जा रहा है  जब की यह किसी जाति धर्म के हितेषी नहीं है समाजवाद की बात करते हैं समाजवाद में सभी समाज के जनों को लेकर चलने का काम होता है लेकिन इन लोगों के ऊपर जातिगत राजनीति पर ठप्पा लगा है। अब दूसरा नाम है बसवा के ऊपर दलित का ठप्पा लगा हुआ है जिनका भी जनाधार दलित समझ गए हैं अव बहुत तेजी से गिरता आ रहा है। जब भी लोग इस तरह की राजनीति करते हैं तो बताइए देश में हर धर्म के लोगों को कैसे न्याय मिलेगा जब हिंदू ,दलित के नाम से वट जाएगा और इन्हीं दलितों पर अन्याय जब हिंदू के नाम से होगा तब आप सोचेंगे कि हमें उन  लोगों ने अपने स्वार्थ के कारण मोहरा बनाया , तथा राजनीति में अपने को बनाए रखने के लिए हमें मोहरा बनाते आए हैं आज हम गली, कूचे, मोहल्ले में रहते हैं वहां पर जब हमें कोई परेशान करता है दलित देखकर नहीं परेशान किया जाता वहां पर हिंदू है  ।वहां यह नहीं देखा जाता है कि दलित है इसलिए मेरा कहना यह है कि हिंदू बनो दलित ना बनो हिंदू हिंदू होता है हिंदू दलित नहीं होता है हिंदू एकता का प्रतीक बनो आज जो दलित बसपा में आ गए हैं कभी कांग्रेस का हिस्सा हुआ करते थे इसीलिए कांग्रेश उत्तर प्रदेश में समाप्त हो गई है ।उसका सारा वोट बैंक सपा और बसपा ने ले लिया है आज अपने स्वार्थ के कारण जो राजनीतिक दल हमें आपको जातिगत राजनीति में झोंक रहे हैं और सिर्फ अपने स्वार्थ में झोंक रहे हैं हमें आप को समझने की जरूरत है आज देश को एकता अखंडता मजबूती के लिए ऐसी सरकार चाहिए जो देश को मजबूत कर सके सिर्फ किसी के बहकावे में आकर जातिगत राजनीति से ऊपर उठकर एक राष्ट्रीय जात बनाएं जिसमें सभी धर्म जाति के लोग एक साथ होकर एक ऐसे दल का चयन करते हैं और करेंगे इसे देश को इन शक्तियों से चीन जैसा मजबूत हमारा भारत बन सके जब चीन आंख दिखाता है तो हम चीन के सामने बौने नजर आते हैं उसकी सख्ती के आगे हमारी सक्ती बहुत कम आती है हमें जातिगत राजनीति से उठकर चीन की शक्ति से अधिक ऊपर जाने की जरूरत है।जहां पर जातिगत राजनीति होती है वहां पर विकास जातिगत हिसाब से किया जाता है देश प्रदेश में हर जाति के लोग रहते हैं जहां पर हमें सब को लेकर चलना होता है लेकिन कुछ दल विशेषजातिगत लाभ के कारण आपको दिखावे कारण उन्हें लाभ पहुंचाते है  पहचान माध्यम के द्वारा पहचान है तभी आप वहां तक पहुंच पाएंगे। और मुझे लगता है जनता जागरूक हो गई है अब जातिगत के आधार पर वोट नहीं होना चाहिए हिंदू हिंदू होता है ना वह दलित होता है ना अन्य बहुत सी जातियां हिंदू में आती है, सब एक बनो संगठित हिंदू बनने का प्रयास करो । तभी देश मजबूत होगा।

No comments