Latest News

खबर का हुआ असर: जिम्मेदारों ने ट्रेनिंग स्थल पर लगवाये प्रोजेक्टर

लेकिन भोजन, नाश्ते की गुणवत्ता में नहीं किया सुधार

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । जनपद में शिक्षकों के निष्ठा प्रशिक्षण के नाम पर बगैर प्रोजेक्टर लगवाये ही प्रशिक्षण कराने की स्क्रिप्ट लिखने वाले जिम्मेदारों द्वारा बरती जा रही हद दर्जे की लापरवाही की खबर समाचार पत्रों में प्रकाशित होने के बाद प्रशासन चैकन्ना हुआ और आखिरकार छह विकासखंडों में जिन स्थानों पर निष्ठा प्रशिक्षण कराया जा रहा था वहां पर आनन-फानन में प्रोजेक्टर लगवा दिये गये। लेकिन ताज्जुब की बात तो यह है कि प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले शिक्षकों को जो नाश्ता व भोजन दिया जा रहा है उसकी गुणवत्ता में कोई सुधार नहीं आया।



उल्लेखनीय हो कि परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को निष्ठा प्रशिक्षण के नाम पर लाखों रुपये का बजट शासन द्वारा आवंटित किया गया था। लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा निष्ठा प्रशिक्षण को बगैर प्रोजेक्टर लगाये ही कराये जाने की स्क्रिप्ट तैयार कर शिक्षकों का प्रशिक्षण शुरू करा दिया गया था। जब इस बात की भनक मीडिया को पता चली तो उसने जमीनी सच्चाई जानने के बाद इस संबंध में समाचार प्रकाशित किये तो जिला प्रशासन के साथ ही प्रशिक्षण कराने की जिम्मेदारी उठा रहे जिम्मेदार अधिकारियों की पोल खुलती दिखी तो उन्होंने आनन-फानन में प्रोजेक्टरों की खरीद कर उन्हें प्रशिक्षण स्थल पर लगवाये जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी। इस बीच अतिरिक्त मजिस्ट्रेट गुलाब सिंह बीआरसी मड़ोरा पहुंचे जहां पर उन्होंने निरीक्षण और इसकी भनक जब तक प्रशिक्षण लेने आये शिक्षकों को पता चल पाती वह वहां से वापस लौट गये। जिससे शिक्षक भोजन व नाश्ता की खराब गुणवत्ता की शिकायत नहीं कर पाये। भोजन की खराब गुणवत्ता की शिकायतें कोंच, जालौन, माधौगढ़, कुठौंद, कदौरा व डकोर विकासखंड से निरंतर मिल रही है।


बगैर प्रोजेक्टर प्रशिक्षण मामले में जिम्मेदार अभी भी मौन

उरई। जिले के छह विकासखंडों में शिक्षकों के चल रहे निष्ठा प्रशिक्षण कई चरणों में कराया जाना है। पांच दिवसीय प्रशिक्षण के क्रम में अब तक बगैर प्रोजेक्टर लगाये ही प्रशिक्षण कराये जाने का खुलासा होने के बाद अब जिम्मेदार अधिकारी इस बात का जबाब देने से बचते नजर आ रहे है। सवाल यह उठता है कि जिन शिक्षकों का निष्ठा प्रशिक्षण पूरा हो चुका है क्या उन्हें पुनः प्रशिक्षण दिलाया जायेगा जब इस संबंध में जिम्मेदारों से जानकारी चाही तो वह मौन व्रत पर चले।

No comments