Latest News

पूर्व सीएम कर्पूरी ठाकुर को वापस लाने के लिए बनी संघर्ष समिति

दो दिन पूर्व ताम्बेश्वर चैराहे से गायब हुयी थी प्रतिमा 
सड़क से लेकर संसद तक लड़ाई लड़ने का पिछड़ों ने किया ऐलान 

फतेहपुर, शमशाद खान । दो दिन पूर्व ताम्बेश्वर चैराहे में स्थापित जननायक एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री स्व0 कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा गायब होने के बाद मामला गहराता जा रहा है। सविता समाज उत्थान सेवा समिति के बैनर तले सामाजिक संगठनों के साथ-साथ अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों की बैठक आयोजित की गयी। जिसमें पूर्व सीएम कर्पूरी ठाकुर को वापस लाये जाने के लिए 15 सदस्यीय संघर्ष समिति का गठन किया गया। यह समिति सड़क से लेकर संसद तक संघर्ष करेगी। 
ताम्बेश्वर चौराहे से गायब प्रतिमा का दृश्य।
शुक्रवार को सविता समाज उत्थान सेवा समिति की एक आपातकालीन बैठक बृज दुर्गा गार्डेन में अध्यक्ष शंकरलाल सविता की अध्यक्षता में आयोजित हुयी। जिसमें ताम्बेश्वर चैराहा से हटायी गयी महापुरूष एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी जननायक कर्पूरी ठाकुर जी की प्रतिमा का पुर्नस्थापित करने के सम्बन्ध में 15 सदस्यीय संघर्ष समिति का गठन किया गया। जिसमें पिछड़े व अति पिछड़े शोषित वंचित अनुसूचित जाति के सामाजिक संगठनों एवं अन्य सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि मौर्या, सविता, पाल, पासवान, पटेल, साहू, यादव के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए। जो इस मुद्दे को लेकर सड़क से सदन तक लड़ाई लड़ेंगे। साथ ही कानूनी पहलुओं पर भी विचार किया जायेगा। इस संघर्ष समिति का गठन होने के बाद से अब यह मुद्दा और गर्म हो जायेगा। अब प्रशासन की इस मामले में भूमिका क्या होगी इस पर सभी की निगाहें टिकी हुयी हैं। इस मौके पर शंकरलाल सविता, राजकुमार मौर्या एडवोकेट, केपी सिंह एडवोकेट, सुनील उमराव, बुद्धराज धाकड़ी, उदयभान सविता, पवन सविता, ठा0 शिव विक्रम सिंह एडवोकेट, मनोज सविता एडवोकेट, जियालाल बामसेफ, वासुदेव पासवान, प्रकाश बाबू, लाल देवेन्द्र प्रताप, मुकेश मौर्य, कामता प्रसाद वर्मा, रजोल सेन, राम किशोर सविता, संजय सविता, बृजेश सेन, मनोज प्रधान, कालीचरन सविता, कमलेश योगी आदि उपस्थित रहे। 

No comments