Latest News

परमात्मा के साथ रमन ही महारास है: आचार्य विनोद

महोतरा गांव में चल रही श्रीमद्भागवत कथा 

अतर्रा, कृपाशंकर दुबे । महोतरा गांव में चल रही श्रीमद्भागवत कथा में कथा व्यास आचार्य विनोद शुक्ल ने कहा कि हृदय के अंदर स्तिथ निराकार परमात्मा का बाह्यरूप में प्रकट साकार परमात्मा के साथ ऐक्यभाव हो जाना ही महाराज है, प्रत्यक्ष भाव मे इसे ही जीव शिव का मिलान कहा जाता है। परमात्मा का परमात्मा के साथ रमन ही 
कथा सुनाते व्यास विनोद शुक्ल
आध्यत्मिक दृष्टि में महारास है, इस लीला में मनुष्य को भेद बुद्धि नही रखनी चाहिए। व्यास ने अक्रूर बृज यात्रा, कंस वध, उद्धव बृज गमन आदि रोचक प्रसंग सुनाए। इस अवसर पर भगवान कृष्ण रुक्मणी विवाह की सुंदर झांकी सजाई गई। भागवत पाठ एवं पूजन में पंडित राजन शुक्ला व पंडित श्याम जी महाराज रहे। संगीत मंच पर शास्त्रीय गायक संजू शुक्ला सैमसंग कनवारा आर्गन में, और कुलदीप त्रिपाठी जारी बांदा तबला वादक, बीरेंद्र (चुन्नू भईया) पैड प्लेयर अतर्रा ने संगीत के माध्यम से श्रोताओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। कथा के यजमान माया तिवारी, उमाशंकर तिवारी एवं रामलली शुक्ला, संतोष कुमार शुक्ला ने सभी ग्राम वासियों के साथ अम्रत मयी कथा का रस पान किया।

No comments